Jyotish

मई 2020 का पंचांग, आज प्रदोष व्रत है, जानें शुभ मुहूर्त और राहु-काल

पंचांग 19 मई 2020 के अनुसार आज द्वादशी तिथि का समय 17 बजकर 34 मिनट तक है. इसके बाद  त्रयोदशी तिथि आरंभ होगी. इस दिन प्रदोश व्रत है. आज के दिन भगवान शिव की पूजा का विधान है. इस दिन विधि पूर्वक भगवान की स्तुति करने से जीवन में सुख समृद्धि बनी रहती है. आज के दिन शुभ कार्य अभिजित मुहूर्त में करें. पंचांग के अनुसार क्या है आज विशेष आइए

जानिए आपके  राशि के अनुसार कौन सा रत्न होगा आपके लिए भाग्यशाली

नई दिल्ली : (ब्यूरो)  हर व्यक्ति के जीवन में हर दिन नई उमंग लेकर आता है. जन्मकुंडली का हमारे जीवन में अत्यधिक महत्व होता है. कुंडली के अनुसार रत्न का धारण करने से जीवन में आने वाले बहुत से कष्ट दूर हो जाते हैं. इसलिए हम यहां आपको बताने जा रहे हैं कि  राशि के अनुसार कौन-सा रत्न धारण करें, जिससे आपका जीवन खुशहाल हो जाएगा. मेष राशि के जातकों

जानिए आज का पंचांग, शुभ मुहूर्त और राहु-काल का जानिए समय

आज का पंचांग: दिनांक: 17 मई 2020 (Panchang 17 May 2020)विक्रमी संवत्: 2077मास अमांत: वैशाखमास पूर्णिमांत: ज्येष्ठपक्ष: कृष्णवार: रविवारतिथि: दशमी – 12:44:16 तकनक्षत्र: पूर्वाभाद्रपद – 13:58:58 तककरण: विष्टि – 12:44:16 तक, बव – 25:57:23 तकयोग: विश्कुम्भ – 27:31:22 तकसूर्योदय: 05:28:57 AMसूर्यास्त: 19:06:20 PMचन्द्रमा: कुम्भ – 07:14:36 तकऋतु: ग्रीष्मराहुकाल: 17:24:10 से 19:06:21 तक (इस काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है)शुभ मुहूर्त का समय – अभिजित मुहूर्त: 11:50:24 से 12:44:49 तकअशुभ मुहूर्त का समय –दुष्टमुहूर्त: 17:17:21 से 18:11:51 तककुलिक: 17:17:21 से 18:11:51 तककालवेला / अर्द्धयाम: 11:50:24 से

आज के दिन दिन जन्म लेने वालों में होती हैं ये ढेर सारी खूबियां, आप भी जानिए अपनी खूबियों को

नई दिल्ली : (ब्यूरो)  अंक ज्योतिष में 15 का अंक एक अच्छा अंक माना गया है. इसका मूलांक 6 बनता है. यानि 1 और 5 को यदि जोड़े तो मूलांक का पता चलता है. अंक ज्योतिष में 6 अंक शुक्र से प्रभावित है. शुक्र सुख सुविधा और विलासी जीवन का कारक है.   आज के दिन जन्म लेने वाले या जिन लोगों का आज जन्मदिन है उनके जीवन में सुख

सभी प्रकार के पापों को नष्ट करने वाली अपरा एकादशी 18 मई को, जानें व्रत कथा

गाजियाबाद : (ब्यूरो)  ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी के अपरा एकादशी कहा जाता है। यह एकादशी बहुत ही पून्य प्रदायनी और सभी प्रकार के पापों को नष्ट करने वाली है। अपरा एकादशी का व्रत को करने से मनुष्य को अपार धन की संपदा प्राप्त होती है। वहीं दूसरी और बुरे से बुरे कर्म से मुक्ति मिलती है। इस व्रत को करने से कीर्ति धन में वृद्धि होती है।

मोहिनी एकादशी कब है? जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व और व्रत कथा

गाजियाबाद : (जेपी मौर्या) वैशाख मास के पुराणों में कार्तिक मास की तरह पावन बताया जाता है। इसी कारण इस माह में आने वाली एकादशी भी बहुत पून्य और फलदायी मानी जाती है। वैशाख शुक्ल एकादशी को ही मोहिनी एकादशी (Mohini Ekadashi) कहा जाता है। मान्यता है कि इस एकादशी के व्रत (Mohini Ekadashi vrat) से वृति मोह माया से ऊपर उठ जाता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

इस राशि के लोगों की होगी इच्छा पूर्ति, जानें कैसा रहेगा आज आपका दिन?

किन राशि वालों का दिन बेहद अच्छा गुजरेगा, किसे चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा और किस राशि में यात्रा के योग बन रहे हैं? ग्रहों की चाल से राशियों पर पड़ने वाले प्रभाव को आसानी से समझा जा सकता है. मेष- सेहत में सुधार होगा, संतान पक्ष की चिंता दूर होगी, धार्मिक काम में व्यस्त रहेंगे. मेष राशि स्वास्थ्य के प्रति आपको सजग रहना चाहिए. किसी बात को लेकर तनाव बढ़

भगवान बुद्ध के चिकित्सक कौन थे, गजब है इनकी कहानी

अत्रेय तक्षशिला विश्वविद्यालय में वैद्यकीय आचार्य थे। वह अपने सभी स्टूडेंट्स को मेहनत से पढ़ाते और उनकी कड़ी परीक्षा लेते। वह जानते थे कि एक तरफ जहां वैद्यकीय ज्ञान मानव सेवा का सर्वोत्तम माध्यम है वहीं ज्ञान की जरा सी कमी समाज के लिए अमानवीय है। इसलिए वे शिष्यों की काफी जांच के बाद ही सर्टिफिकेट देते थे। उनके शिष्यों में जीवाका नाम का भी एक स्टूडेंट था जो कुशल