IAS Officer Success Story: पहले ही अटेम्प्ट में IAS बनी Anju Sharma, इस विषय में 12वीं में हो गई थी फेल

₹64.73
IAS Officer Success Story: Anju Sharma became IAS in the first attempt
 

IAS Officer Success Story: अंजू शर्मा, एक आईएएस अधिकारी, दिखाती हैं कि सफलता के लिए शिक्षाग्राम को पार करने की आवश्यकता नहीं होती है। वे एक अद्यतन उदाहरण हैं जो अपनी मेहनत, संघर्ष और सामर्थ्य के माध्यम से सिविल सेवा परीक्षा (सिविल सेवा परीक्षा) को पास करके अपने लक्ष्यों को हासिल किया हैं।

अंजू शर्मा ने अपने शिक्षाग्राम में कुछ विषयों में असफलता का सामना किया, जैसे कि उन्होंने अपनी 12वीं कक्षा में इकोनॉमिक्स के पेपर में और 10वीं कक्षा में केमिस्ट्री के प्री-बोर्ड में असफलता का सामना किया। हालांकि, उन्होंने अन्य विषयों में उत्कृष्टता के साथ पाठ्यक्रम पूरा किया। अंजू ने बताया है कि लोग अक्सर असफलताओं को याद नहीं करते हैं, बल्कि केवल सफलताओं को ही याद करते हैं।

इन चुनौतियों और असफलताओं के बावजूद, उनका मानना है कि इन घटनाओं ने उनके भविष्य को आकार दिया। एक बार मीडिया से बातचीत में अंजू ने कहा था, "प्री-बोर्ड के दौरान, मुझे पढ़ने के लिए बहुत सारे चैप्टर्स थे और रात के खाने के बाद मुझे पढ़ना था। उस समय मैं घबराहट महसूस करने लगी क्योंकि मैंने कुछ तैयारी नहीं की थी और मुझे अनुभव हुआ कि मैं फेल होने वाली थी। मेरे आस-पास के लोगों ने यह बताया कि 10वीं कक्षा का प्रदर्शन हमारे हायर स्टडीज को निर्धारित करता है।"

इस कठिन समय में, अंजू शर्मा की मां ने उन्हें सांत्वना दी और प्रेरित किया। उन्होंने यह सीखा कि किसी व्यक्ति का सफलता उसकी अंतिम पढ़ाई पर निर्भर नहीं होनी चाहिए। उन्होंने जबरदस्ती की तैयारी से बचने के लिए उचित रणनीति बनाई, और इससे उन्हें उच्चतर शिक्षा में स्वर्ण पदक विजेता बनने में मदद मिली। वे जयपुर से बीएससी और एमबीए की पढ़ाई करने गईं और इसके बाद यूपीएससी परीक्षा की तैयारी में सफल रहीं। उन्होंने अपना पाठ्यक्रम पहले से ही पूरा किया था और उच्चतम रैंकिंग वाली आईएएस टॉपर्स की सूची में शामिल हो गईं।

1991 में अंजू शर्मा ने राजकोट में सहायक कलेक्टर के पद पर अपना करियर शुरू किया। वर्तमान में, उन्होंने सरकारी शिक्षा विभाग (उच्च और तकनीकी शिक्षा) के प्रमुख सचिव के रूप में गांधीनगर में कार्य किया हैं। उन्होंने गांधीनगर में जिला कलेक्टर के पद पर और भारत सरकार के उद्योग और वाणिज्य मंत्रालय में विभिन्न पदों पर कार्य किया है। उन्होंने एनआरएचएम (गुजरात के राष्ट्रीय खाद्य और खाद्य प्रौद्योगिकी संस्थान) में तीन दशक से अधिक समय सेवा की हैं।

Tags

Share this story