Hotel Check Out Timing: होटल में चेकआउट हमेशा 12 बजे ही क्यों होता है...क्या जानते हैं आप इसके पीछे का लॉजिक?

₹64.73
Hotel Check Out Timing: होटल में चेकआउट हमेशा 12 बजे ही क्यों होता है...क्या जानते हैं आप इसके पीछे का लॉजिक?
Hotel Check Out Timing: अगर आप भी वेकेशन की प्लानिंग कर रहे है और इस दौरान होटल या होमस्टे भी आपने बुक किया होगा। लेकिन क्या आपने इस बात पर कभी गौर किया है कि होटल्स में चेक-इन टाइम को लेकर कोई नियम- कानून नहीं होते, लेकिन चेकआउट टाइम फिक्स होता है दोपहर 12 बजे। 

यानि कि आपको आसान शब्दों में बताएं तो बड़े या छोटे होटल्स किराया तो आपसे पूरे 24 घंटे का लेते हैं लेकिन कमरा आपको 24 घंटे के लिए नहीं मिलता है। आखिर इसके पीछे होटल्स का क्या लॉजिक है। 
अगर आप भी इस सवाल का जवाब ढूंढ़ रहे हैं, तो आज हम इसके बारे में विस्तार से बताने वाले हैं।
1. आपको ब ता दें कि होटल में चेकआउट टाइम 12 बजे रखने की कई सारी वजहें हैं। जिसमें सबसे बड़ा कारण ये है कि इससे होटल के स्टाफ को कमरों की साफ- सफाई, बेडशीट, कवर के साथ और दूसरी जरूरी तैयारियों के लिए पूरा टाइम मिल जाता है। 
2. वहीं अगर कस्टमर्स लेट चेकआउट करते हैं, तो इससे इन तैयारियों के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाता। जिसकी कई बार कस्टमर्स शिकायत भी करते हैं।
3. वेकेशन के दौरान लोग आराम से उठना और तैयार होना पसंद करते हैं। उनके इसी कंफर्ट का ध्यान रखते हुए 12 बजे चेकआउट टाइम रखा जाता है, न कि सुबह 9 या 10 बजे। इससे वो आराम से रेडी हो सकते हैं और दूसरे मेहमानों को भी दिक्कत नहीं होती।

4. 12 बजे चेकआउट टाइम होटल्स इसलिए भी रखते हैं क्योंकि अगर चेकआउट लेट से होता है, तो सारी चीज़ों को जल्दी-जल्दी मैनेज करने के लिए होटल्स को ज्यादा एम्प्लाई रखने की जरूरत होती है। किसी एक स्टाफ पर पूरा काम नहीं छोड़ा जा सकता। जिससे उनका बजट बढ़ सकता है। तो क्लीयर हो गया आपको होटल्स का ऐसा करने के पीछे का फंडा।

Tags

Share this story