Govt Gold Investment : जानिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड निवेश के फायदे, इस दिन से शुरू हो रही है चौथी सीरीज

₹64.73
Govt Gold Investment : जानिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड निवेश के फायदे,  इस दिन से शुरू हो रही है चौथी सीरीज

Govt Gold Investment : सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड निवेश का शानदार मौका है। निवेशकों के लिए Sovereign Gold Bond की चौथी सीरीज कल यानी 12 फरवरी से खुलने जा रही है।


वहीं, निवेश के लिए यह कुछ ही समय का मौका होगा। 16 फरवरी को यह सीरीज बंद हो जाएगी। ऐसे में निवेश के लिए चार ही दिन का समय होगा। इस आर्टिकल में सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश के फायदों से लेकर खरीदारी की जानकारी दे रहे हैं-

Sovereign Gold Bond में निवेश के क्या फायदे हैं?
जीएसटी के दायरे में नहीं आता है।
सालाना 2.5 प्रतिशत ब्याज का भुगतान होता है। (छमाही आधार पर भुगतान)
बदले में लोन भी लिया जा सकता है।
गोल्ड बॉन्ड में ट्रांसफर की सुविधा मौजूद होती है।
मैच्योरिटी के बाद किसी तरह का कोई टैक्स नहीं लगता।
सोना घर पर रखने की झंझट भी खत्म हो जाती है।
शुद्धता की मिलती है पूरी गारंटी

टैक्स को लेकर समझें पूरी बात
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड मैच्योर होने के बाद मिलने वाली राशि पर निवेशक को किसी तरह का कोई ब्याज नहीं देना पड़ता है। हालांकि, निवेशकों को मिलने वाला ब्याज उनके टैक्स स्लैब के मुताबिक टैक्सेबल होता है।

ब्याज की राशि मौजूदा समय पर सोने के भाव पर आधारित होती है।

गोल्ड खरीदने की लिमिट
Sovereign Gold Bond खरीदने की लिमिट को लेकर जानकारी होना जरूरी है। केंद्रीय बैंक आरबीआई द्वारा जारी गाइडलाइंस के मुताबिक निवेशक को कम से कम 1 ग्राम और अधिकतर 4 किलोग्राम सोना खरीदने की अनुमति है।


ट्रस्ट के लिए यह सीमा कुछ बढ़ जाती है। ट्रस्ट 20 किलोग्राम तक सोने में निवेश कर सकते हैं।

यहां से खरीदें सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड किसी भी बैंक से ऑनलाइन-ऑफलाइन खरीदा जा सकता है। इसके अलावा, एनएसई, बीएसई और डाक घर से भी सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदा जा सकता है।

कितना है इश्यू प्राइस
एक ग्राम सोने का इश्यू प्राइस 6263 रुपये तय हुआ है। ऑनलाइन निवेश करते हैं तो प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट का फायदा उठाया जा सकता है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड का मैच्योरिटी पीरियड 8 वर्ष है। हालांकि, इससे पहले 5 वर्ष में भी राशि निकाली जा सकती है। 

Tags

Share this story