Kisan Andolan Update: हरियाणा के किसानों ने गिरफ्तार नेताओं को तुरंत रिहा करने की मांग, जिला उपायुक्त के नाम सौंपा ज्ञापन

₹64.73
हरियाणा के किसानों ने गिरफ्तार नेताओं को तुरंत रिहा करने की मांग, जिला उपायुक्त के नाम सौंपा ज्ञापन
Kisan Andolan Update: पंजाब के किसानों के दिल्ली कूच का आह्वान करने के बाद अब किसान आंदोलन की आंच जींद भी पहुंच गई है। जिला पुलिस द्वारा तीन किसान नेताओं कथुरा के अक्षय नरवाल, मदीना के प्रवीण और कोयल के वीरेंद्र की गिरफ्तारी का विरोध करते हुए जनता सरकार मोर्चा और किसान संगठनों ने प्रदर्शन किया और उपायुक्त के नाम एसडीएम के माध्यम से ज्ञापन सौंपा। किसान नेताओं ने साफ किया कि अगर सोमवार तक इन तीनों को रिहा नहीं किया गया तो वह कोई बड़ा फैसला लेने को मजबूर होंगे और इसकी जिम्मेवार सरकार और जिला प्रशासन होगा।

हरियाणा पंजाब की सीमा पर दातासिंह वाला बॉर्डर पर टकराव के मामले में जिले की गढ़ी थाना पुलिस ने भारतीय किसान नौजवान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अभिमन्यु कोहड़ सहित 6 किसानों के खिलाफ हत्या के प्रयास, सरकारी कार्य में बाधा डालने, तोड़फोड़ करने और धारा 144 का उल्लंघन करने का केस दर्ज कर कथुरा गांव के अक्षय नरवाल, रोहतक जिले के मदीना गांव निवासी प्रवीण कुमार और कैथल जिले के कोयल गांव निवासी वीरेंद्र को गिरफ्तार कर रात को ही स्पेशल कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया। इस मामले को लेकर आज जनता सरकार मोर्चा, भारतीय किसान नौजवान यूनियन और दूसरे किसान संगठनों ने प्रदर्शन करते हुए जिला उपायुक्त के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में तीनों गिरफ्तार नेताओं को तुरंत रिहा करने की मांग की गई है और कहा गया है कि अगर सोमवार तक इन तीनों को रिहा नहीं किया गया तो किसान कोई बड़ा आंदोलन करने का फैसला करने को मजबूर होंगे जिसकी जिम्मेवारी सरकार और जिला प्रशासन पर होगी।
प्रदर्शनकारी किसानों ने बताया कि इस मामले में तीन गिरफ्तार नेताओं के अलावा अभिमन्यु कोहाड़, सिधाना गांव निवासी लक्खा व सुरेंद्र को आरोपी बनाया गया है। किसान नेताओं ने सरकार के इशारे पर तीनों गिरफ्तार किसान नेताओं के मानवाधिकारों के हनन का आरोप लगाते हुए कहा की जेल में उन्हें 15 मिनट के लिए बाहर निकाला जाता है और बाकी पूरे दिन उन्हें जेल के अंदर बैरक में रखा जाता है। 
इस बीच दिल्ली लुधियाना राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित खटकड़ टोल प्लाजा को किसानों ने टोल फ्री करवा कर खटकड़ टोल प्लाजा पर धरना शुरू कर दिया है। किसानों ने कहा कि पूरे हरियाणा में अभी तक किसानों ने आंदोलन में कोई भागीदारी नहीं की थी लेकिन सरकार ने किसानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर और उन्हें गिरफ्तार कर किसानों को भड़काने का काम किया है और राज्य में अशांति फैलाने का काम किया है।करने के बाद अब किसान आंदोलन की आंच जींद भी पहुंच गई है। जिला पुलिस द्वारा तीन किसान नेताओं कथुरा निवासी अक्षय नरवाल, मदीना निवासी प्रवीण और कोयल निवासी वीरेंद्र की गिरफ्तारी का विरोध करते हुए जनता सरकार मोर्चा और किसान संगठनों ने प्रदर्शन किया और उपायुक्त के नाम एसडीएम के माध्यम से ज्ञापन सौंपा। किसान नेताओं ने साफ किया कि अगर सोमवार तक इन तीनों को रिहा नहीं किया गया तो वह कोई बड़ा फैसला लेने को मजबूर होंगे और इसकी जिम्मेवार सरकार और जिला प्रशासन होगा।
हरियाणा पंजाब की सीमा पर दातासिंह वाला बॉर्डर पर टकराव के मामले में जिले की गढ़ी थाना पुलिस ने भारतीय किसान नौजवान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अभिमन्यु कोहड़ सहित 6 किसानों के खिलाफ हत्या के प्रयास, सरकारी कार्य में बाधा डालने, तोड़फोड़ करने और धारा 144 का उल्लंघन करने का केस दर्ज कर कथुरा गांव के अक्षय नरवाल, रोहतक जिले के मदीना गांव निवासी प्रवीण कुमार और कैथल जिले के कोयल गांव निवासी वीरेंद्र को गिरफ्तार कर रात को ही स्पेशल कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया। इस मामले को लेकर आज जनता सरकार मोर्चा, भारतीय किसान नौजवान यूनियन और दूसरे किसान संगठनों ने प्रदर्शन करते हुए जिला उपायुक्त के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में तीनों गिरफ्तार नेताओं को तुरंत रिहा करने की मांग की गई है और कहा गया है कि अगर सोमवार तक इन तीनों को रिहा नहीं किया गया तो किसान कोई बड़ा आंदोलन करने का फैसला करने को मजबूर होंगे जिसकी जिम्मेवारी सरकार और जिला प्रशासन पर होगी।
प्रदर्शनकारी किसानों ने बताया कि इस मामले में तीन गिरफ्तार नेताओं के अलावा अभिमन्यु कोहाड़, सिधाना गांव निवासी लक्खा व सुरेंद्र को आरोपी बनाया गया है। किसान नेताओं ने सरकार के इशारे पर तीनों गिरफ्तार किसान नेताओं के मानवाधिकारों के हनन का आरोप लगाते हुए कहा की जेल में उन्हें 15 मिनट के लिए बाहर निकाला जाता है और बाकी पूरे दिन उन्हें जेल के अंदर बैरक में रखा जाता है। 
इस बीच दिल्ली लुधियाना राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित खटकड़ टोल प्लाजा को किसानों ने टोल फ्री करवा कर खटकड़ टोल प्लाजा पर धरना शुरू कर दिया है। किसानों ने कहा कि पूरे हरियाणा में अभी तक किसानों ने आंदोलन में कोई भागीदारी नहीं की थी लेकिन सरकार ने किसानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर और उन्हें गिरफ्तार कर किसानों को भड़काने का काम किया है और राज्य में अशांति फैलाने का काम किया है...

Tags

Share this story