Hisar Airport: महाराजा अग्रसेन हवाई अड्डे से अप्रैल महीने में शुरू होगा विमानों का आवागमन, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने दी जानकारी

₹64.73
Hisar Airport: महाराजा अग्रसेन हवाई अड्डे से अप्रैल महीने में शुरू होगा विमानों का आवागमन, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने दी जानकारी
Hisar Airport: हरियाणा के उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा हैदाराबाद में आयोजित विंग्स इंडिया 2024 इवेंट में हरियाणा प्रदेश को तीन बड़ी सौगात मिली है। उन्होंने कहा कि सिविल एविएशन से हिसार एयरपोर्ट को ऑपरेशनल व मैनेजमेंट अपूर्वल से मिल चुका है। हिसार एयरपोर्ट की एटीसी कंट्रोल, रडार व अन्य तकनीकी उपकरणों के ऑपरेशन की दिशा में सिविल एविएशन अथॉरिटी  ऑफ इंडिया के साथ एमओयू साईन हो चुका है। फरवरी माह से उनकी टीम महाराजा अग्रसेन हवाई अड्डा हिसार में कार्यभार संभालेंगी और इसके उपरांत अप्रैल माह से सभी विमान आवागमन के कार्यों का शुभारंभ हो जाएगा।

उपमुख्यमंत्री शनिवार को लघु सचिवालय परिसर हिसार स्थित वीडियो कॉन्फ्रेंस सभागार में पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एयरपोर्ट पर बोर्डिंग, अराईवल-डिपार्चर जैसी सभी सुविधाएं सुचारू रूप से जल्द ही शुरू हो जाएंगी।  इसके अलावा प्राथमिक विमान सेवाएं वीजीएफ के माध्यम से केंद्रीय सरकार की उड़ान-5.2 योजना के तहत यातायात शुरू हो जाएगा, इनमें हिसार से दिल्ली, चंडीगढ़ तथा उड़ान-5.3 के माध्यम से दिल्ली, अहमदाबाद, जयपुर के लिए भी एमओयू साईन हो चुका है। इससे पड़ोसी राज्य के नागरिकों को भी अच्छी हवाई कनेक्टिविटी मिल पाएंगी। सप्ताह में दो दिन मनाली, शिमला, धर्मशाला व देहरादून, चंडीगढ़ के लिए विमान सेवाएं प्रस्तावित की है।
डिप्टी सीएम ने कहा कि सर्वे के आधार पर आगरा व अयोध्या के लिए भी प्रोपोजल दिया जाएगा। गुरूग्राम द्वारका एक्सप्रेस नेशनल हाई-वे के साथ 30 एकड़ में प्रस्तावित हैली हब प्रोजेक्ट को भी जल्द शुरू किया जाएगा। इसके माध्यम से उत्तर भारत के सभी धार्मिक स्थलों जिसमें हिमाचल, उत्तराखंड व राजस्थान के लिए सेवाएं मिल पाएंगी। जुलाई माह के मध्य से अंबाला सिविल एयरपोर्ट से भी सेवाएं शुरू हो जाएंगी। वेयरहाउसिंग व कार्गाे कंपनियों के साथ भी एमओयू साईन हुआ है, इसमें 3800 एकड़ आईएमसी हिसार के अंतर्गत एयरो डिफेंस का कलस्टर भी बनेगा। देश की एमआरओ एसोसिएशन ने हिसार में अपनी दिलचस्पी दिखाई है। इसमें टेंडर के माध्यम से पुराने टर्मिनल के तीनों हैंगरों से पुराने विमानों को रिपेयर करने की परियोजना शुरू की जाएगी। चार साल से प्रदेश सरकार के प्रयासों से ये सब संभव हुआ है।
उन्होंने बताया कि पूरे एशिया महाद्वीप में हिसार से कार्गों एक्सचेंज के लिए अच्छी कनेक्टिविटी बनती है। भविष्य में एशिया महाद्वीप की कार्गों सेवाएं के लिए हिसार एयरपोर्ट को अंतर्राष्टड्ढ्रीय कार्गाे केंद्र बनाने का प्रोपोजल भी भेजा जाएगा। हिसार एयरपोर्ट पर दस हवाई जहाजों के खड़े होने के लिए अप्रेन की सुविधा भी उपलब्ध है। भविष्य में 20 छोटे हवाई जहाजों के खड़े होने की व्यवस्था के लिए पुराने एयरपोर्ट की भूमि पर चिंहित हैं। एलायंस ऐयरलाईंस से भी विमान सेवाओं के लिए एग्रीमेंट हो चुका है। डिप्टी सीएम ने कहा कि जल्द ही तलवंडी राणा व ढंढूर को दो सडक़ मार्गों से शहर से जोड़ा जाना प्रस्तावित है। हिसार में बनने वाले हरियाणा राज्य के पहले क्लोवरलीफ प्रोजेक्ट को अप्रूवल मिल चुका है।

इस अवसर पर श्रम मंत्री अनूप धानक, खादी बोर्ड के चेयरमैन राजेंद्र लितानी भी उपस्थित थे।

Tags

Share this story