Haryana News: हरियाणा में कनीना स्कूल बस हादसे में बड़ा खुलासा, आरोपी ड्राइवर ने बच्चों को बचाने की बजाए किया ये काम

₹64.73
Haryana News: हरियाणा में कनीना स्कूल बस हादसे में बड़ा खुलासा, आरोपी ड्राइवर ने बच्चों को बचाने की बजाए किया ये काम
Haryana News: हरियाणा के महेंद्रगढ़ में ईद की छुट्‌टी के बावजूद खुले GL पब्लिक स्कूल की तेज रफ्तार बस गुरुवार सुबह (11 अप्रैल) पलट गई। हादसे में 6 बच्चों की मौत हो गई, जबकि 25 बच्चे घायल हुए हैं। इनमें कई की हालत अब भी गंभीर है। 

उन्हें रेवाड़ी व महेंद्रगढ़ के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। यह हादसा कनीना-सेहलंग रोड पर गांव उन्हानी के पास सुबह हुआ। हादसे के वक्त बच्चों को स्कूल ले जाया जा रहा था। हादसे में मरने वाले बच्चों की पहचान सत्यम (16), युवराज (14), दो सगे भाई यशु (15) व अंशु (13), वंश (14) और रिकी (15) के रूप में हुई है। 
इनमें से 4 बच्चे एक ही गांव झाड़ली के रहने वाले थे। मरने वालों में राज्य के पूर्व शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा के भांजे पूर्व सरपंच संजय शर्मा का बेटा भी शामिल है। यह हादसा गांव झाड़ली के लिए सबसे मनहूस रहा। इस गांव के 4 बच्चों ने हादसे में जान गंवाई है। इनमें 2 सगे भाई यशु और अंशु भी शामिल हैं। 

परिवार में ये दोनों ही संतान थीं। गुरुवार शाम को चारों बच्चों का गांव के ही श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया गया। इनमें दो सगे भाइयों अंशु और यशु का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया। स्कूल बस को चला रहा ड्राइवर नशे में था। पुलिस ने गिरफ्तार कर जब उसका मेडिकल करवाया तो उसमें शराब की पुष्टि हुई। घायल छात्रा बबीता ने बताया कि ड्राइवर की आंखें लाल थी। बस की स्पीड ज्यादा थी। 
स्पीड ब्रेकर पर चढ़ते ही बस का संतुलन बिगड़ा तो ड्राइवर खिड़की खोलकर नीचे कूद गया और बस पलट गई। बस का पीछे का हिस्सा पेड़ से जा टकराया। खिड़‌कियों के कांच भी बच्चों को चुभ गए। सभी बच्चे मम्मी-पापा कहकर चीखने लगे। किसी के हाथ-पैर तो किसी के मुंह और सिर पर चोट लगी थी। कुछ बच्चे बेसुध हालत में एक-दूसरे पर पड़े थे। सबके चेहरे और कपड़े खून से सने हुए थे।
जांच में खुलासा हुआ कि बस के डॉक्यूमेंट कंप्लीट नहीं थे। उसका फिटनेस सर्टिफिकेट एक्सपायर था। बस की 6 साल से फिटनेस पासिंग नहीं कराई थी। परिवहन विभाग द्वारा पिछले महीने स्कूल प्रबंधक पर बस के कागज पूरे न होने पर 15 हजार रुपए का जुर्माना लगाया था।
जांच में खुलासा हुआ है कि अगर GL पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल दीप्ति राव लापरवाही नहीं करती तो शायद बच्चों की जान बच जाती। हादसे में गंभीर रूप से घायल हुई दिव्या नाम की छात्रा के दादा ने बताया है कि नशे में धुत बस ड्राइवर को खेड़ी गांव में एक ग्रामीण ने रोका था। बाकायदा बस की चाबी भी निकाल ली गई।
ड्राइवर के नशे में होने की जानकारी ग्रामीणों ने प्रिंसिपल को दी। मगर, प्रिंसिपल ने ये कहते हुए टाल दिया कि आज ड्राइवर को जाने दीजिए। बच्चे काफी लेट हो रहे हैं। कल इसे हटा देंगे। इसके बाद यह हादसा हुआ।
पुलिस ने केस दर्ज कर बस ड्राइवर सेहलंग निवासी धर्मेंद्र, कनीना निवासी प्रिंसिपल दीप्ति व स्कूल सेक्रेटरी होशियार सिंह को गिरफ्तार किया है। होशियार सिंह स्कूल संचालक का बड़ा बेटा है व दीप्ति छोटे बेटे की बहू है। हादसे के बाद जागे परिवहन विभाग ने नारनौल आरटीए के सहायक सचिव प्रदीप कुमार को सस्पेंड कर दिया है। शिक्षा विभाग ने स्कूल प्रबंधन को छुट्टी के दिन स्कूल खोले जाने पर नोटिस दिया है।

अतिरिक्त परिवहन आयुक्त (सड़क सुरक्षा) ने अधिकारियों को दुर्घटना स्थल का दौरा कर हादसे के कारणों और महेंद्रगढ़ कार्यालय के जिम्मेदार अधिकारी और कर्मचारियों के नाम बताते हुए 3 दिन में रिपोर्ट मांगी है। वहीं हरियाणा के CM नायब सैनी ने कहा कि यदि सरकारी अवकाश के दिन कोई निजी स्कूल खुला पाया गया तो संबंधित स्कूल की मान्यता रद्द होगी। उन्होंने राज्य के सभी DC व पुलिस अधीक्षक को निर्देश देते हुए कहा कि भविष्य में इस तरह कोई हादसा न हो। इसके लिए DC व पुलिस अधीक्षक ही जिम्मेदार होंगे।

Tags

Share this story