ज्योतिष

अष्टमी और नवमी पर इन मुहूर्त में करें कन्या पूजन, होगी मां की कृपा

अष्टमी और नवमी पर इन मुहूर्त में करें कन्या पूजन, होगी मां की कृपा!(ब्यूरो): शक्ति की आराधना का पर्व नवरात्र जारी है। भक्तों को अब महाअष्टमी और महानवमी का इंतजार है। इस दिन घर घर विशेष पूजा होती है और कन्याओं को भोजन करवाया जाता है। उनकी पूजा होती है। देश के बड़े हिस्से में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। पंचाग के अनुसार, इस बार अष्टमी तिथि का प्रारंभ

नवरात्रि 2020: नवरात्रि के दूसरे दिन देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा से मिलेगी शांति और समृद्धि

नवरात्रि 2020: नवरात्रि के दूसरे दिन देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा से मिलेगी शांति और समृद्धिब्यूरो-:देवी दुर्गा का स्वागत करने के लिए नौ दिनों के उत्सव की शुरुआत शनिवार (17 अक्टूबर) से हो चुकी है। आशा की एक किरण की तरह, यह भारतीय उत्सव इस बार अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि इस वर्ष पसंदीदा ग्रहों की स्थिति है। इस साल, उत्सव 17 अक्टूबर से शुरू होता है और 25 अक्टूबर को समाप्त

अगर आप करते हैं गायत्री मंत्र का जाप तो जानें इन बातों को

अगर आप करते हैं गायत्री मंत्र का जाप तो जानें इन बातों को(ब्यूरो)-:गायत्री मंत्र भगवान सूर्य की उपासना के लिए सबसे आसान और फलदायी मंत्र कहा जाता है। इस मंत्र का जाप करने से स्वास्थ्य, यश, प्रसिद्धि, धन-दौलत तो मिलती ही है साथ ही इसका जाप करने से मन और वाणी भी पवित्र हो जाते हैं। इस मंत्र को पढ़ने से पहले कुछ बातों के बारे में पता होना जरूरी

सपने में पानी, शादी, लड़की, सांप को देखने का जानिये क्‍या अर्थ है

सपने में पानी, शादी, लड़की, सांप को देखने का जानिये क्‍या अर्थ है (ब्यूरो):स्‍वप्‍नशास्‍त्र के जानकारों, ज्‍योतिषियों, हस्‍तरेखा विशेषज्ञों का मानना है कि सपनों में भविष्‍य में घटने वाली कई घटनाओं की पूर्व सूचना मिलती है जो कि सांकेतिक होती है। यदि हम इन पर गौर करें तो पाएंगे कि सपने में मिले संकेत और वास्‍तविक जीवन की घटना का आपस में कहीं ना कहीं कोई संबंध स्‍थापित होता है।

ना धी ना तेल ना दिया ना बाती फिर भी बिना रुके बिना बुझे लगातार जल रही है जोत, ये कैसा चमत्कार ?

ना आग, ना धुआ ना ताप फिर कैसे हजारो सालो से उबल रहा है पानी ये श्रधा है ये चमत्कार है या कोई अनसुलझा रहस्य   माँ की कोई प्रतिमा नही कोई आकर नही फिर कैसे है ये हजारो सालो से आस्था का केंद्र ये श्रधा है ये चमत्कार है या कोई अनसुलझा रहस्य विज्ञानिक क्या तलाश कर रहे है यहा ? क्यों अभी तक कोई निष्कर्ष तक नही पहुंच पाया

गणेश चतुर्थी : आज घर में बिराजेंगे बुद्धि-विवेक के स्वामी गजानंद !

यह है मूर्ति स्थापित करने का शुभ मुहुर्त चंडीगढ़ (ब्यूरो) :- देशभर में आज गणेश चतुर्थी मनाया जा रहा है… यानि भगवान गणेश का जन्मोत्सव मनाने की तैयारी की गई है। आज सूर्यास्त के साथ ही श्रद्धालुओं द्वारा भगवान शिव की मूर्ति स्थापना की जाएगी। अबकी बार लोगों ने भगवान गणेश और मां रिद्धि-सिद्धि की इको-फ्रैंडली मूर्तियां स्थापित करने पर जोर दिया है। साथ ही आपको बता दे कि अब इस समय

हरतालिका तीज का व्रत आज, व्रती महिलाएं जानिए महत्व ! 

हरितालिका तीज के दिन होती है गौरी-शंकर  की पूजा ! चंडीगढ़ (ब्यूरो) :- आज हरितालिका तीज का व्रत है… जिसको काफी शुभ माना जाता है.. बता दे कि महिलाएं द्वारा इस व्रत को काफी किया जाता है…महिलाओं के लिए आज का दिन विशेष रहेगा… आज नहाय खाय के साथ हरितालिका तीज का व्रत शुरू हो जाएगा…व्रत रखने से पहले यानि आज महिलाएं अपने हाथों पर मेहंदी रचाती है… हरितालिका तीज के दिन

वैष्णो देवी यात्रा कल से, जानिए कितने श्रद्धालु कर सकते है दर्शन !

अब सिर्फ दो हजार यात्री प्रतिदिन होंगे शामिल ! घोड़ा और पालकी फिलहाल अनुमति नहीं   जम्मू- कश्मीर (ब्यूरो):- वैष्णो देवी यात्रा कल यानी 16 अगस्त से शुरू हो जाएगी… यहां पर  आठ पुजारियों और 11 श्राइन बोर्ड कर्मचारियों के संक्रमित मिलने के बाद अब इसकी एसओपी में बदलाव किया गया है। पहले यहां एक दिन में पांच हजार लोगों को दर्शन करने की अनुमति दी गई थी.. लेकिन कोरोना के मामले संक्रमित

आप भी कर सकते है मां वैष्णो देवी के दर्शन, जानिए कैसे ?

ऑनलाइन होगा पंजीकरण ! बाहर के 500 श्रद्धालुओं को ही अनुमति  चंडीगढ़ (ब्यूरो) :- मां वैष्णो देवी के दर्शन करने के लिए हजारों की संख्या में श्रद्धालु आते है… लेकिन महामारी और लॉकडाउन की वजह से हर कोई अपने घरों में कैद है… सभी धार्मिक संस्थान बंद कर दिए गए था… लेकिन अब कई  प्रदेश के सभी धार्मिक स्थल 16 से खुल जाएंगे। इसके लिए सरकार की ओर से एसओपी जारी कर दी

क्या विवाह से पहले जरुरी है कुंडली मिलान ?

जानिए कैसे दुलहा-दुल्हन के मिलेंगे विचार ! चंडीगढ़ (ब्यूरो) :- विवाह से पूर्व कुंडली मिलान करना अत्यंत आवश्यक हैं, क्योंकि कुंडली मिलान भावी दूल्हा-दुल्हन की अनुकूलता और उनके सुखी व समृद्ध भविष्य को जानने का एक सटीक साधन है। व्यवहारिक रूप में गुण मिलान की यह विधि अपने आप में पूर्ण नहीं है तथा सिर्फ इसी विधि के आधार पर कुंडलियों का मिलान सुनिश्चित कर देना उचित नहीं है। इस विधि