रेलवे ने 5231 कोच को आइसोलेशन वार्ड में बदला, ढ़ाई हजार चिकित्सक आपात स्थिति के लिए तैयार

रेलवे ने 5231 कोच को आइसोलेशन वार्ड में बदला, ढ़ाई हजार चिकित्सक आपात स्थिति के लिए तैयार

नई दिल्ली: (ब्यूरो) भारतीय रेलवे कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए चल रही जंग में चिकित्सीय मदद के लिए लगातार प्रयासरत है। भारतीय रेलवे ने देशभर में कोरोना इलाज के लिए 215 रेलवे स्टेशनों को चिन्हित किया है। वहीं सभी चिकित्सीय उपकरणों एवं संसाधनों के लैस करके आईसोलेशन वार्ड के रूप में तैयार किये गये 5231 ट्रेनों के कोच कोरोना मरीजों के इलाज के लिए पूरी तरही से तैयार हैं। रेल मंत्रालय के अनुसार भारतीय रेलवे ने यात्री ट्रेनों के 5231 कोचों को कोविड देखभाल केंद्रों यानि आइसोलेशन वार्ड के रूप में रूपांतरित कर दिया है, जो कोरोना मरीजों के इलाज के लिए पूरी तरह से तैयार हैं,

जिन्हें नैदानिक रूप से स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुरूप कोविड देखभाल केंद्रों को सौंपा जा सकता है। इन कोचों का उपयोग वैसे क्षेत्रों में किया जा सकता है, जहां राज्य की चिकित्सा सुविधाएं कमजोर हैं और कोविड के संदिग्ध तथा पुष्ट मामलों के आइसोलेशन के लिए क्षमताओं को बढ़ाने की आवश्यकता है। रेलवे के अनुसार देश में भारतीय रेलवे द्वारा चिन्हित 215 स्टेशनों में से 85 स्टेशनों में स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं उपलब्ध कराएगा। जबकि 130 स्टेशनों में बनाए गये इन केंद्रों को कोविड देखभाल कोचों का राज्य सरकारों के आग्रह करने पर कर्मचारियों एवं अनिवार्य दवाएं उपलब्ध कराई जा सकेगी। मसलन भारतीय रेल ने इन कोविड देखभाल केंद्रों के लिए विभिन्न राज्यों में रेलवे के 158 स्टेशनों को वाटरिंग और चार्जिंग सुविधा के साथ और 58 स्टेशनों को वाटरिंग सुविधा के साथ तैयार किया है। वहीं रेलवे पीपीई जैसे सुरक्षा उपकरण भी लगातार बना रहा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *