मोदी जी! आखिर हम कहां जाए ? WBSI संगठन ने भी मांगी मदद !

मोदी जी! आखिर हम कहां जाए ? WBSI संगठन ने भी मांगी मदद !

कुशल कारीगरों पर मंडराया बेरोजगारी का खतरा
जीरकपुर (आईएचखान ):-
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से देश में चल रहे हर छोटे-बड़े उद्योगकी मदद के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी। साथ ही पंजाबसरकार की ओर से भी डोर-टू-डोर नौकरी अभियान शुरू किया गया, लेकिन इतना सब होने केबाद भी दूर-दराज के इलाकों से आकर शहरों के साथ कस्बों में अपनी सेवाएं दे रहासौंदर्य और सैलून उद्योग बंद होने के कगार पर पहुंच रहा है। इसी को लेकर वेलनेसएंड ब्यूटी स्किल इंडिया ऑर्गेनाइजेशन के सदस्यों ने एक मीटिंग की। मीटिंग मेंजिया उर रहमान ने कहा कि कोरोना जैसी भयंकर बीमारी से लड़ाई में सरकार औरप्रशासनिक अमले ने बखूबी अपने काम को निभाया है। साथ ही लॉकडाउन के दौरान उद्योगोंको हुए नुकसान की भरपाई के लिए सरकार ने उनकी मदद भी की है, लेकिन ऐसे में सरकारकुछ समय पहले तेजी से उभरे सौंदर्य और सैलून उद्योग की मदद करना शायद भूल गई है।रहमान ने कहा कि सौंदर्य और सैलून उद्योग ने पिछले कुछ समय में अनेक लोगों कोरोजगार दिया है, जिसके चलते अनेक लोग इस फील्ड में योग्यता हासिल कर दूसरे लोगोंको भी रोजगार दे रहे है।
एक अनुमान के अनुसार सौंदर्य और सैलून व्यवसाय सेप्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर 10 करोड लोग जुड़े हुए है, लेकिन कोरोना काल मेंअनदेखी का शिकार हो रहा ये व्यवसाय बर्बाद होता दिखाई दे रहा है, जिससे इस व्यवसायसे जुड़े लोग मानसिक तनाव से गुजर रहे है। व्यवसाय बंद होने की सूरत में हजारों कुशलकारीगर भी बेरोजगार हो जाएंगे, जिसका सीधा असर देश और प्रदेश की अर्थव्यवस्था परपड़ेगा। ऐसे में केंद्र और प्रदेश सरकार की ओर से स्थानीय उद्योगों की मदद करने काकोई लाभ होता दिखाई नहीं दे रहा है। ऑर्गेनाइजेशन की ओर से पीएम के नाम भेजेज्ञापन में सौंदर्य और सैलून उद्योग की मदद करने की अपील की गई है, जिससे येउद्योग पहले की तरह अपना काम कर सके। मौके पर रहमान, शौकीन मोहम्मद, सुखदेव, अशरफऔर जगतार मौजूद रहे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *