भारतीय आर्मी के इस मुसलमान अफसर से डरती थी पाकिस्तानी सेना ! पाक सेना प्रमुख बनने का जिन्ना का प्रस्ताव भी दिया था ठुकरा !

भारतीय आर्मी के इस मुसलमान अफसर से डरती थी पाकिस्तानी सेना ! पाक सेना प्रमुख बनने का जिन्ना का प्रस्ताव भी दिया था ठुकरा !

नौशेरा के शेर के नाम से जाने जाते थे ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान
बंटवारे के समय पेश की वतन परस्ती की मिसाल
मोहम्मद अली जिन्ना का पाक सेना प्रमुख बनानेका प्रस्ताव दिया था ठुकरा
चंडीगढ़, (आईएच खान) :-
दुनिया में जब भी किसीदेश के सर्वश्रेष्ठ सैनिकों का जिक्र होता है तो सबसे पहले भारतीय सेनाओं के वीरजवानों का नाम आता है….आजाद भारत में भी कईँ ऐसे सैन्य अधिकारी हुए, जिन्हें तकयाद किया जाता है..

ऐसे ही एक सैन्य अधिकारी थे ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान…….भारतीय सेना की ओर से किसी भी युद्ध के मैदान में शहीद होने वाला येसेना का सबसे पहला बड़ा अधिकारी था…..पाकिस्तान की सेना उस्मान के नाम से ही खौफखाती थी….भारतीय सेना में इस अफसर को नौशेरा का शेर भी कहा जाताहै…..ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान में वतन परस्ती इस कदर बसी हुई थी कि आझादी केबाद उसने मोहम्मद अली जिन्ना का पाकिस्तान सेना का चीफ बनाए जाने का प्रस्ताव भीठुकरा दिया था…..ब्रिगेडियर शहीद मोहम्मद उस्मान का जन्म उत्तर प्रदेश के मऊ में15 जुलाई 1912 को हुआ था…..1947 के भारत-पाक युद्ध को शहीद उस्मान के लिए यादकिया जाता है….

अगस्त 1947 में आजादी के बाद उसी साल दिसंबर में पाकिस्तान घुसपैठियोंने झनगड़ नाम के इलाके पर कब्जा कर लिया था, लेकिन ब्रिगेडियर उस्मान ने 1948 मेंपहले नौशेरा और फिर झनगड़ को वापस भारत के कब्जे में करने का काम किया था…..उस्मानने नौशेरा में इतनी जबरदस्त लड़ाई लड़ी थी कि पाकिस्तान के एक हजार से अधिक घुसपैठिएमार गिराए थे….जबकि इतने ही घायल हो गए थे…..बाद में मातृभूमि की रक्षा करतेहुए तीन जुलाई 1948 को वे शहीद हो गए थे…आज भी जब उस्मान का जिक्र होता है तोभारतीय सेना के जवानों का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *