फर्रुखाबाद में कुदरत की आफत, सड़के तालाब,पहाड़ो से गिरती चट्टानें !

फर्रुखाबाद में कुदरत की आफत, सड़के तालाब,पहाड़ो से गिरती चट्टानें !

तालाब में तब्दील शहर, नगर पालिका के विकास की खुली पोल

फर्रुखाबाद (दीपक शुक्ला) :- 
 भारी बरसात से जहां पूरा नगर सराबोर हो गया वहीं सड़कों पर हुए जल भराव से घरों व दुकानों में पानी घुस जाने से नागरिकों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। खासतौर से जो मोहल्ले नीचे में बसे हैं उनके कमरों में भी चला गया जैसे तलैया फजल इमाम, मदारबाड़ी, खड़ियाई आदि दर्जनों मोहल्ले ऐसे हैं जो जरा सा पानी बरसते ही टापू में तब्दील हो जाते हैं।  जिले में आज मूसलाधार बारिश होने से शहर तालाब में तब्दील हो गया, जिससे पालिका की बद्इन्तजामी के चलते पानी घुटनों तक आ गया। शहर के वाशिंदे बाल-बाल गिरने से बचे। शहर की नालियों की सही तरह से तलीदार सफाई न होने से सड़क पर पानी भर आता है। जिससे आमजनमानस को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। लेकिन पालिका के कानों में जूं तक नहीं रेगंती है। सुबह से ही भीषण गर्मी का माहौल था।

दोपहर तक बादल आखिर पिघल ही गये और जमकर बरसात हुई। जिससे नगर पालिका की सफाई व्यवस्था की पोल खुल गई और शहर टापू बना दिखाई दिया। शायद ही कोई मोहल्ला ऐसा रहा हो जहां जल भराव नहीं हुआ होगा। नाले नालियां उफना गये। नालियां में भरा कूड़ा करकट सड़कों पर आ गया। काफी तेजी से हुई बरसात के कारण गली-मोहल्ले ही नहीं बल्कि मुख्य मार्गों तक पे पानी भरा दिखाई दिया।नाले भरे हुए हैं उन पर अतिक्रमण करके मकान बना लिये गये। पानी का निकास कहीं भी नहीं रह गया। ऐसे में हर दिन हालात बद से बदतर ही होते जा रहे हैं। एक समय था जब डिग्गी ताल में पानी प्रवाहित हो जाया करता था। इसके अलावा लाल  दरवाजा होते हुए गंगा नगर के पीछे से जाने वाला नाला खुला हुआ था तो पानी निकल जाता था लेकिन वर्तमान में सारे तालाब खत्म हो गये। नाला चोक हो गया इसलिए जल भराव सिर पर चढ़कर बोल रहा है। जब इस मामले में अधिशासी अधिकारी रबिन्द्र कुमार से  बात की गयी तो उन्होंने माना की शहर में मई जून नालो  की  हो जानी चाहिए लेकिन नहीं की गयी |  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *