फंड की कमी ना आए इसके चलते पंजाब के मुख्यमंत्री ने सभी विभागों को खर्चे तर्कसंगत करने के लिए कहा..

फंड की कमी ना आए इसके चलते पंजाब के मुख्यमंत्री ने सभी विभागों को खर्चे तर्कसंगत करने के लिए कहा..

चंडीगढ़(भारत 9 ब्यूरो)। कोरोना वायरस के लम्बे समय के प्रभावों पर गंभीर अशंका व्यक्त करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सोमवार को सभी विभागों को निर्देश दिए कि वह अपने खर्चों को तर्कसंगत करें, जिससे इस महामारी के खि़लाफ़ जंग में किसी भी कीमत पर फंडों की कमी न आए। इसके चलते वित्तीय प्रबंधन संबंधी कैबिनेट की उच्चधिकार समिति की वीडियो कॉन्फ्रेंस के द्वारा मीटिंग करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्व भर के अध्ययन और रिपोर्टों को देखते हुए कोविड संबंधी जो गंभीर तस्वीर सामने आ रही है, उसमें अनुमान अच्छे नहीं हैं। मुख्यमंत्री ने यह स्पष्ट किया कि राज्य को पेश आर्थिक संकट के बावजूद स्वास्थ्य शिक्षा और बुनियादी ढांचे जैसे ज़रूरी क्षेत्रों के पूँजीगत व्यय के 5000 करोड़ रुपए बरकरार रखे जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कोविड और लॉकडाउन के कारण साल 2020-21 के कुल राजस्व प्राप्तियों में 30 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान है। वित्त विभाग के अनुमानों के अनुसार साल 2019-20 की 5,74,760 करोड़ रुपए की जी.एस.डी.पी. (संशोधित अनुमान) की अपेक्षा इस साल की जी.एस.डी.पी. में नाममात्र वृद्धि की उम्मीद की जा सकती है। पिछली कुल राजस्व प्राप्तियाँ / जी.एस.डी.पी. वृद्धि के औसत रूझानों के अनुसार पंजाब को मौजूदा वित्तीय वर्ष 2020-21 में कुल 62,246 करोड़ रुपए के राज्सव प्राप्ति की उम्मीद थी, परन्तु अब इसमें 25,758 करोड़ रुपए के करीब गिरावट आ रही है, जो कि कुल राजस्व प्राप्ति का 29.26 प्रतिशत बनता है। देश के अंदर कोविड की बिगड़ती हुई स्थिति और राज्य की आमदन में लगातार गिरावट का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने चेतावनी दी कि स्थिति में नज़दीकी भविष्य के दौरान सुधार होने की संभावना नहीं।

Published By: Pooja Saini

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *