प्रदेश व केंद्र सरकार के लोगों को सुविधा मुहैया कराने के तमाम वायदे झूठे। 

प्रदेश व केंद्र सरकार के लोगों को सुविधा मुहैया कराने के तमाम वायदे झूठे। 

 स्थानीय जनता मुलभुत सुविधाओं से वंछित !
जमीनी हकीकत के हालात ढ़ाक के तीन-पात।   
पलवल (ज्योति खंडेलवाल) :-
  पलवल में सरकारी योजना व सुविधाओं का लाभ आम जनता को नहीं पा रहा है। सरकारी योजना पर ऊंट के मुंह में जिरा ये कहावत बिलकुल सटीक बैठती है। गांव हो या शहर हालात बद से बदत्तर नजर आ रहे हैं। जमीनी हकीकत पर देखा जाए तो जनता मुलभुत सुविधाओं से वंछित है। चाहे व बिजली-पानी, सडक़ व सफाई व्यवस्था की हो। यहां तक की बात करें तो शहरों में वार्डों में हालात खराब नजर आ रहें है। प्रदेश व केंद्र सरकार एक तरफ तो लोगों को हर सुविधा मुहैया कराने के तमाम वायदे करती है। लेकिन यह वायदे केवल कागजी कार्रवाई तक ही सिमट कर रह जाते हैं। जमीनी हकीकत देखी जाए तो हालात वही ढ़ाक के तीन-पात वालें है।

यदि गांवो का हाल देखा जाए तो आज भी ग्रामीण आम सुविधाओं से वंचित है। गलियों पानी निकासी का न होना, पर्याप्त मात्रा बिजली नहीं मिलना, गलियों में गंदे पानी का जमावड़ा रहना। जिससे लोगों को आवागमन में तो परेशानी होती है बल्कि मौसमी बीमारियां फैलने का खतरा भी हरसंभव बना रहता है। अधिकतर गावों में देखा जाए तो प्रवेश द्वार बनाने की योजना भी सिरे नहीं चढ़ पाई। यदि कुछ गावों में बनाए भी गए तो उनमें घटिया सामग्री का प्रयोग होने के आरोप लगे है। जोहड़ो की सफाई की बात की जाए तो उनकी हालात देखकर ही लगता है कि यहां भी दाल में कुछ काला है। यदि गांवों से शहरो का रुख किया जाए तो वहां भी हालात जस के तस बनें हुए है। बरसात के समय में नालों का गंदे पानी से भरा रहना है। सडक़ो पर गंदगी के अंबार लगे रहना है। शहर की गलियों में रात के समय रोशनी का अभाव रहना। वहीं लोगों का कहना है कि यदि किसी भी समस्या को लेकर पार्षद, सरपंच या उच्चाधिकारी को अवगत कराया जाए तो हर समय घिसा-पिटा जवाव रहता है कि यह समस्या उनके संज्ञान में है जल्द ही समाधान कराया जाएगा।    

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *