9 बजे 9 मिंनट: बल्ब और ट्यूबलाइट बंद होने से बिजली ग्रिड पर नहीं पड़ा कोई असर

9 बजे 9 मिंनट: बल्ब और ट्यूबलाइट बंद होने से बिजली ग्रिड पर नहीं पड़ा कोई असर

• घरों की रोशनी बंद करने से ग्रिड पर नहीं पड़ा कोई असर
• बिजली खपत में आई 32000 मेगावाट की गिरावट
• बिजली खपत 1,17,000 मेगावाट से कम होकर 85,300 मेगावाट रही

नई दिल्ली(ब्यूरो)। कोरोना वायरस जैसी घातक बीमारी से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपील की थी कि रविवार को रात नौ बजे से नै मिनट के लिए देश भर में घरों के बल्ब और ट्यूबलाइट बंद कर दीया, मोमबत्ती जलाए। वहीं देश भर में घरों के बल्ब और ट्यूबलाइट बंद होने से बिजली ग्रिड पर कोई असर नहीं पड़ा।

सरकार और बिजली कंपनियों के मांग में अचानक से कमी और फिर बढ़ोतरी की स्थिति से निपटने के लिये तैयार की गयी विस्तृत कार्य योजना से कोई समस्या उत्पन्न नहीं हुई। प्रधानमंत्री ने शुक्रवार (3 अप्रैल) को कोरोना वायरस के खिलाफ अभियान के तहत देश के नाम अपने संदेश में ‘अंधकार’ को चुनौती के रूप मे रविवार (5 अप्रैल) को रात नौ बजे नौ मिनट तक बिजली बंद करने और दीया, टॉर्च या मोबाइल से रोशनी करने की अपील की थी।

बिजली मंत्री आर के सिंह ने कहा, ”बिजली आपूर्ति में कमी और फिर बढ़ोतरी का काम बहुत सुचारु रूप से चला। उन्होंने कहा मैं और मेरे साथ वरिष्ठ अधिकारी…बिजली सचिव और पोस्को सीएमडी…नेश्नल मॉनिटरिंग सेंटर से व्यक्तिगत रूप से स्थिति पर नजर रखे हुए थे। मैं एनएलडीसी (नेश्नल लोड डिस्पैच सेंटर), आरएलडीसी (रिजनल लोड डिस्पैच सेंटर) और एसएलडीसी (स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर) के सभी इंजीनियरों को स्थिति से बखूबी निपटने को लेकर बधाई देता हूं।”

मंत्री के अनुसार करीब चार-पांच मिनट के दौरान बिजली खपत 1,17,000 मेगावाट से कम होकर 85,300 मेगावाट रही। यह संभावित 12,0000 मेगावाट की कमी से कहीं अधिक थी। मंत्रालय के अनुसार लाइट बंद होने के बाद मांग में कमी के पश्चात 110 मेगावाट की बढ़ोतरी सुचारू रही। कहीं से भी बिजली में गड़बड़ी या बंद होने की घटना नहीं हुई। उन्होंने बिजली उत्पादन कंपनियों एनटीपीसी और एनएचपीसी की सराहना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *