हिंदू- मुस्लिम कारीगरों ने अयोध्या मंदिर के लिए मिलकर किया ये काम !

हिंदू- मुस्लिम कारीगरों ने अयोध्या मंदिर के लिए मिलकर किया ये काम !

जलेसर क्षेत्र पूरी दुनिया में पीतल के घुंघरू व घंटे के लिए मशहूर , अब हुआ कुछ ऐसा !
अब अयोध्या में भी होगा जलेसर के लोगों का योगदान, मंदिर के लिए बनाया 2100 सौ किलो का घंटा  
एटा (नन्द कुमार ) :- 
जिले का जलेसर क्षेत्र पूरी दुनिया में पीतल के घुंघरू व घंटे के लिए मशहूर है। पहले भी यहां बने घंटे देश के कोने कोने में भेजे गए हैं। अब अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर के लिए भी एक 2100 सौ किलो का घंटा बनाया गया है। इस घंटे को हिंदू- मुस्लिम कारीगरों ने मिलकर बनाया है । इस घंटे का निर्माण जलेसर क्षेत्र के एक व्यवसायी परिवार ने कराया है। इस घंटे की कुल कीमत करीब 20 लाख रुपए बताई जा रही है।

दरअसल हिंदू आस्था के प्रमुख केंद्र भव्य राम मंदिर के निर्माण की बात से पूरे समाज में खुशी की लहर है। राम मंदिर को लेकर लोगों में अगाध आस्था है। इसी आस्था के तहत लोग अपने अपने तरीके से भगवान राम के प्रति अपनी श्रद्धा व्यक्त कर रहे हैं। इसी कड़ी में जलेसर के मित्तल परिवार ने 2100 किलो का घंटा राम मंदिर में लगाने के लिए दान करने की बात कही है। इस घंटे की खास बात यह है कि इसमें गुणवत्तापूर्ण मेटल का उपयोग किया गया है। बताया जा रहा है कि जब यह घंटा बजेगा तो इसकी आवाज 15 किलोमीटर दूर तक सुनाई पड़ेगी। इस पूरे घंटे को बनाने में करीब 20 लाख की लागत लगी है । इसके अलावा इस घंटे को बनाने में इकबाल तथा दाऊ दयाल नाम के कारीगरों ने अपना अहम योगदान दिया है। इकबाल ने पूरे घंटे का फरमा बनाया। तो दाऊ दयाल ने इसको तैयार किया है । करीब 6 फीट की ऊंचाई का यह घंटा लोगों में आकर्षण का केंद्र बना हुआ है और जब से इस घंटे को अयोध्या भेजे जाने की बात लोगों के सामने आई है। तब से यह और खास हो गया है । घंटे का निर्माण कराने वाले प्रशांत मित्तल बताते हैं कि यह घंटा हमारे परिवार के द्वारा अयोध्या के राम मंदिर के लिए भेंट किया जाएगा। उन्होंने बताया कि मंदिर निर्माण के बाद घंटा टांगने की व्यवस्था जैसे ही होती है। स्वयं घंटा ले जाकर वहां भेंट किया जाएगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *