हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने किया एक अनोखा फैसला, आरोपी को किया इस शर्त पर रिहा !

हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने किया एक अनोखा फैसला, आरोपी को किया इस शर्त पर रिहा !

रिहा कर कहा युवक पढ़ने वाला है, भविष्य पर दे ध्यान
2 महीने तक सोशल मीडिया से दूर रहने की दी सलाह 
एक महीने में पांच फलदार पौधे लगाने का दिया टास्क
लगाए गए पेड़ों के फोटो कोर्ट में करनी होगी पेश 
ग्वालियर/भूपेंद्र भदौरिया :-
हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने एक मेधावी छात्र को मारपीट के मामले में अनोखी शर्त के साथ जमानत याचिका स्वीकार की है। हाईकोर्ट ने कहा है कि नवयुवक पढ़ने लिखने वाला है और उसे भविष्य में प्रतियोगी परीक्षा में शामिल होना है ।इसलिए वह अपना पूरा ध्यान पढ़ाई पर केंद्रित करे और 2 महीने तक सोशल मीडिया से पूरी तरह से दूर रहे। कोर्ट ने यह भी कहा कि युवक पांच फलदार पेड़ लगाए और उनकी देखभाल करे। एक महीने के भीतर लगाए गए पेड़ों के फोटो कोर्ट में पेश करे। कोर्ट ने यह भी कहा है कि युवक पीड़ित पक्ष को किसी भी तरह से डराएगा अथवा धमकायेगा नहीं और उसे 50 हजार के निजी मुचलके पर जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए।

मामला दरअसल भिंड के असवार कस्बे का है ।लॉकडाउन के दौरान युवक हरेंद्र त्यागी ने अपने कुछ मित्रों के साथ मिलकर एक बुजुर्ग दुकानदार की मारपीट कर दी थी जिससे उसे फ्रैक्चर हो गया था। दुकानदार का कसूर इतना था कि उसने इन नवयुवकों को गुटखा पाउच देने से इंकार कर दिया था। बाद में सभी के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। 24 जून से जेल में बंद है उसने अपनी जमानत याचिका भिंड कोर्ट में दायर की थी जिसे खारिज कर दिया गया। बाद में उसके वकील ने हाईकोर्ट में जमानत याचिका दायर की जिस पर कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से उसकी  सुनवाई की और हिदायतो के साथ युवक को जमानत का लाभ दिया है ।कोर्ट ने माना कि मानसिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए सोशल मीडिया से नवयुवकों की दूरी जरूरी है। अब देखने वाली बात होगी कि नवयुवक सोशल मीडिया यानी फेसबुक व्हाट्सएप और दूसरे प्लेटफार्म से कितना दूर रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *