सूर्य ग्रहण से विश्व व देश पर क्या रहेगा प्रभाव? जानिए…

सूर्य ग्रहण से विश्व व देश पर क्या रहेगा प्रभाव? जानिए...

ग्रहण के 41 दिन पहले और 41 दिन बाद धरती के वातावरण पर अक्सर देखा गया है। इस साल 6 ग्रहण हैं और 30 दिन के अंदर लग रहे हैं। इस कारण, भूकंप, अधिक वर्षा, बाढ़, प्राकृतिक आपदाएं, सीमा विवाद, राजनीमिक विवाद, हिंसक व धार्मिक उन्माद, आर्थिक मंदी, जनप्रतिनिधियों की जान को खतरा, महामारी के केसों में 30 दिन तक वृद्धि की आशंका रहेंगी।

किस राशि वाले क्या करें ग्रहण के बाद दान या पाठ ?

आपकी कुंडली में दी गई चंद्र राशि के अनुसार ग्रहण का यह सामान्य फल हो सकता है, फिर भी हर व्यक्ति की ग्रह- दशा आदि के अनुसार कई अन्य फलादेश भी होंगें। ग्रहण के बाद बताए गए दान या पाठ में से कुछ भी कर सकते हैं।

1. मेष- सफलता के संकेत। धन लाभ का योग बन रहा है। इस राशि के लोगों के लिए सूर्यग्रहण विशेष लाभ देने वाला साबित होगा। सूर्यग्रहण किसी भी मामले में हानिकारक नहीं है बल्कि सभी मामलों में लाभ देने वाला साबित होगा।
मूल मंत्र- ओम् नमः शिवाय का जाप
दान- गेहूं, आटा, गुड़, मसर की दाल, लाल वस्त्र, दवाई

2. वृषभ- यह ग्रहण धन भाव में होगा। कर्ज न लें। दुश्मन बढ़ सकते हैं, जिसकी वजह से मानसिक तनाव में रह सकते है। वाणी पर नियंत्रण रखना है। अनाज का दान कर सकते हैं और चावल, आटा, गेहूं और दाल दे सकते हैं। मूल मंत्र – श्री सूक्त का जपु जी साहब / पाठ करें
दान- चावल, चीनी, कपूर, दूध का पैकेट, सफेद मिठाई, सफेद कपड़े

3. मिथुन- सूर्य ग्रहण आपकी ही राशि में लगने जा रहा है स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी परेशानी हो सकती है। आर्थिक स्‍तर पर आपके लिए सब कुछ अच्‍छा नहीं चलेगा और आपको काफी नुकसान भी हो सकता है।
मूल मंत्र- गणेश जी का स्मरण करें।
दान- गाय को हरा चारा, सब्जियां, हरी मूंग दाल, हरे कपड़े, हरे रंग के मास्क या सैनेटाइजर्स दान करें

4. कर्क- संपत्ति के मामले में हानि हो सकती है। कर्ज ना लेना है न ही देना है। खर्चे बहुत अधिक बढ़ सकते हैं। गरीब व्यक्ति को आप अन्न,गुड़, तिल या वस्त्र का दान कर सकते हैं, जो आपके लिए बेहद अच्छा रहने वाला है।
मूल मंत्र- शिव आराधना ,जपु जी साहब का पाठ करें
दान- दही, सफेद वस्त्र, दूध, पानी की बोतलें

5. सिंह- कहीं से लाभ प्राप्‍त होने के संकेत हैं। नए लोगों से मिलेंगे और आपकी नए लोगों से दोस्ती बढ़ेगी। पैसे के मामलों में आपकी स्थिति काफी अच्छी रहेगी। यह सूर्य ग्रहण आपके लिए काफी फलदायी होने वाला है।
मूल मंत्र- ओम् सूर्याय नमः का पाठ करें
दान- तांबे का बर्तन, आटा, कनक, गुड़, आम,सेब,हलवा ब्रेड

6. कन्‍या- ग्रहण लाभकारी है। सुखद परिणाम मिलेंगे।
मूल मंत्र- सरस्वती मंत्र पढ़ें- ओम् हृीं हृीं हृीं सरस्वत्यै नमः
दान- सब्जी, हरा चारा, भोजन, जल, इलायची, शर्बत

7. तुला- वाणी पर नियंत्रण रखें। झगड़ा हो सकता है।
मूल मंत्र- लक्ष्मी जी की पुजा, मंदिर में पूजन सामग्री, दीपक,घी, मूर्तियों के वस्त्र,मास्क

8. वृश्चिक- ग्रहण अष्टम भाव में होगा। हर प्रकार के संक्रमण से बचने की जरूरत है। निवेश करना आपके लिए अच्‍छा नहीं है। सांस से संबंधित बीमारियों को लेकर भी आपको खासा ध्‍यान देने की जरूरत है।
मूल मंत्र- हनुमान चालीसा, सुखमणि साहिब का पाठ
दान- हल्दी, चीनी, गुड़, शक्कर, लाल, पीले फल, लाल रंग के मास्क।

9. धनु- ग्रहण आपकी राशि के 7वें भाव में लगने जा रहा है। परेशानियों से मुक्‍त हो जाएंगे। उतनी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा। सेहत के मामले में इस वक्‍त पहले की तुलना में अधिक सावधान रहने की जरूरत है।
मूल मंत्र- विष्णु पूजा, महामृत्यं मंत्र
दान- चना, बेसन, पीली मिठाई, आटोमेटिक सेनेटाइजर, बेकरी आयटम

10. मकर- इस राशि के लोगों के लिए यह शुभ है।
मूल मंत्र- संदर कांड का पाठ
दान- चना, उड़द, सरसों तेल, काजल, सुरमा, जूते, चप्पल, काली छतरी

11. कुंभ- चिंता बढ़ सकती है। किसी रिलेशनशिप में पड़ने से बचना चाहिए। पैसों के मामले में इस वक्‍त कोई खास लाभ नहीं मिलने वाला है। आर्थिक मामलों में आपकी स्थित सही रहेगी।
मूल मंत्र- हनुमान जी की आराधना, चौपई साहब का पाठ
दान- कोयला, गैस सिलेंडर, अन्न, सरसों का तेल

12. मीन- ग्रहण काफी फायदेमंद हो सकता है। रुके हुए काम पूरे हो जाएंगे। व्‍यापारियों और नौकरीपेशा लोगों के लिए यह सूर्य ग्रहण अच्‍छे फल देने वाला साबित होगा। सूर्यग्रहण के प्रभाव से आपको स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़ी कोई समस्‍या पेश आ सकती है।
मूल मंत्र- रामचरित मानस,मूल मंत्र का पाठ
दान- केले, पपीता ,खरबूजा, चीटियों को तिल चावल शकर, पीले वस्त्र

Published By: Pooja Saini

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *