सरकार के साथ आया देश इस रक्षा बंधन पर चीन की सस्ती नहीं देश की महंगी राखी से सजेगी भाई की कलाई !

सरकार के साथ आया देश इस रक्षा बंधन पर चीन की सस्ती नहीं देश की महंगी राखी से सजेगी भाई की कलाई !

इस बार FESTIVAL में होगा चीनी उत्पादों का बहिष्कार ?
इस रक्षाबंधन चीनी राखियों को टक्कर देगी ‘मोदी राखी’.. 
‘मोदी राखी’ के साथ तैयार हो रही पारंपरिक राखी  

चंडीगढ़ (ब्यूरो) :-
राखी एक ऐसा पवित्र त्यौहार जो हर भाई-बहन के प्यार को जोड़ता है.. इस बार की राखी कुछ एहम और अलग होने वाली है.. क्युकी इस महामारी के दौर में हर कोई अपने भाई से मिलना तो चाहता है.. लेकिन कही दूर होने के कारण इस बार की राखी  में मिल पाना संभव नहीं है.. वही इस बार की राखी इस लिए भी  खास है क्युकी इस बार चीन की सस्ती राखी नहीं बल्कि इस बार देश की महँगी राखी ही भाई की कलाई पर बांधने वाली है.. हालाँकि देखना ये होगा कि इस बार की राखी में कितना इजाफा होता है…  देश में चीनी सामान के बहिष्कार की मुहिम जोर पकड़ रही है. कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) की अगुवाई में 10 जून 2020 को शुरू हुए चीनी उत्पादों के बहिष्कार के राष्ट्रीय अभियान को पूरे देश में जोरदार समर्थन मिल रहा है. महिलाओं ने नए-नए प्रयोग करते हुए कई अन्य प्रकार की राखियां भी विकसित की हैं जिनमें विशेष रूप से तैयार मोदी राखी, बीज राखी भी शामिल है जिसके बीज राखी के बाद पौधे लगाने के काम में आ सकते हैं….  इसी प्रकार से पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए मिट्टी से बनी राखियां, दाल से बनी राखियां, चावल, गेहूं और अनाज के अन्य सामानों से बनी राखियाँ, मधुबनी पेंटिंग से बनी राखियां, हस्तकला की वस्तुओं से बनी राखियां, आदिवासी वस्तुओं से बनी राखियां आदि भी बड़ी मात्रा में देश के विभिन्न राज्यों में बनाई जा रही हैं… इसमें कुछ ऐसी रखिये भी है.. जिसका उपयोग आप बाद में भी कर सकते है.. 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *