शहर की सड़के अब दिखेगी साफ़, नगर पालिका ने किया ये काम !

शहर की सड़के अब दिखेगी साफ़, नगर पालिका ने किया ये काम !

पहले के उपकरण फांक रहे धूल !
दीपक शुक्ला (फरुखाबाद) :-
 शहर की सड़कों पर कूड़ा बिखरने से बचाने के लिए कुछ चिह्नित स्थान कर कूड़ेदान रखने के लिए मंगाए गए थे, लेकिन वह पालिका के स्टोर रूम में रखे ही गल रहे हैं. इतना ही नहीं तीन माह पहले खरीदा गया 25 लाख रुपये का कांपेक्टर 15 दिन से खराब खड़ा है… इससे पहले भी एक नया कांपेक्टर तीन साल तक नगरपालिका स्टोर में खड़ा रहा था… पूर्व में खरीदे गए करीब साढ़े तीन सौ कूड़ेदान गल चुके हैं,जिससे लाखों रुपये का पलिता लगा था…

नगरपालिका परिषद ने गत वर्ष घर-घर कूड़ा उठवाने के लिए 62 रिक्शा व कूड़ेदान खरीदे थे. तत्कालीन अधिशासी अधिकारी रश्मि भारती ने दावा किया था कि कर्मचारी घर-घर जाकर कूड़ा लेंगे. देखरेख के अभाव में कुछ कूड़ेदान टूट गए तो शेष को पालिका कर्मियों ने उठा कर स्टोर रूम में रख दिए. अब वह भी गल रहे हैं.यानि पालिका कर्मियों की लापरवाही अब तक इस कद्र हावी रही है कि कूड़ेदान में डाला जाने वाला कूड़ा अब शहर की सड़कों पर ही दिखाई दे रहा है,जबकि कई जिम्मेदारों ने कूड़ा उठाने के लिए रिक्शा चलाया ही नहीं और अधिकांश रिक्शा स्टोर में खड़े-खड़े कंडम हो गए.कुछ रिक्शे ही सड़कों पर रह गए. दरअसल 28 हजार रुपये कीमत का रिक्शा व कूड़ेदान मानक के अनुसार नहीं थे.कूड़ेदान की चादर भी हल्की थी. इसके अलावा कूड़ा उठाने वाले वाहनों की हालत भी खस्ता हो चुकी है.तीन साल पहले एक कांपेक्टर खरीदा था,जो सड़क पर तो उतरा नहीं सिर्फ स्टोर रूम की शोभा बढ़ाता रहा.इस बीच तीन अन्य कांपेक्टर भी खरीदे गए थे, जिनमें एक कांपेक्टर खराब भी हो गया. एक कांपेक्टर की कीमत 25 लाख रुपये से अधिक बताई जा रही है. अब कांपेक्टर के खराब हो जाने से कूड़ा उठाने में दिक्कत हो रही है. बता दें कि कांपेक्टर कूड़े को दबा देता है, जिससे उसमें अधिक कूड़ा संकलित हो जाता है. वहीं ट्रैक्टर ट्राली से कूड़ा उठाने में कई चक्कर लगाने पड़ते हैं. अधिशासी अधिकारी रविंद्र कुमार का कहना है कि कांपेक्टर, रिक्शा व कूड़ेदान की खरीद उनकी तैनाती से पूर्व की गई थी. खराब कांपेक्टर को सही कराने के लिए संबंधित कंपनी को बता दिया गया है. 50 कूड़ेदान की सप्लाई मिल गई है, जिन्हें विभिन्न स्थानों पर रखवाया जाएगा. इससे गली-मोहल्लों में लोग कूड़ा फेंकने के बजाय कूड़ेदान में ही डाल सकेंगे. उन्होंने कहा कि खराब हो चुके कूड़ेदानों की नीलामी के निर्देश दिए जा चुके है…
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *