मोहिनी एकादशी कब है? जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व और व्रत कथा

मोहिनी एकादशी कब है? जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व और व्रत कथा

गाजियाबाद : (जेपी मौर्या) वैशाख मास के पुराणों में कार्तिक मास की तरह पावन बताया जाता है। इसी कारण इस माह में आने वाली एकादशी भी बहुत पून्य और फलदायी मानी जाती है। वैशाख शुक्ल एकादशी को ही मोहिनी एकादशी (Mohini Ekadashi) कहा जाता है। मान्यता है कि इस एकादशी के व्रत (Mohini Ekadashi vrat) से वृति मोह माया से ऊपर उठ जाता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है। आज हम आपको बताएंगे कि वैशाख एकादशी (Vaishakh Ekadashi) को मोहिनी एकादशी क्यों कहा जाता है, शुभ मुहूर्त, व्रत कथा और पूजा विधि और साल 2020 में मोहनी एकादशी कब है? वैशाख शुक्ल एकादशी के दिन ही भगवान विष्णु ने मोहिनी का रूप धारण किया था। भगवान विष्णु ने समुद्र मंथन के दौरान प्राप्त हुए अमृत को देवताओं में वितरित करने के लिए मोहिनी का रूप धारण किया था। कहा जाता है कि जब मंथन हुआ था तो अमृत प्राप्ति के बाद देवताओं और असुरों में आपा धापी मच गई थी। चूंकि देवता ताकत के बल पर देवता असुरों का हरा नहीं सकते थे। इस लिए भगवान विष्णु ने चालाकी से भगवान विष्णु ने मोहिनी का रूप धारण कर असुरों के अपने मोह पास में बांध लिया और सारे अमृत का पान देवताओं को करा दिया, जिससे देवताओं ने अमृत प्राप्त किया। वैशाख शुक्ल एकादशी के दिन इस घटना क्रम की वजह से मोहिनी एकादशी कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *