भारतीय राजनीति के भीष्म पितामह को राष्ट्र हमेशा याद करेगा : रामबिलास शर्मा

भारतीय राजनीति के भीष्म पितामह को राष्ट्र हमेशा याद करेगा : रामबिलास शर्मा

 भारत माँ के सच्चे सपूत, राष्ट्र पुरुष, राष्ट्र मार्गदर्शक, सच्चे देशभक्त ना जाने कितनी उपाधियों से पुकार जाता था, भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी को वो सही मायने में भारत रत्न थे, इन सबसे भी बढक़र  अटल बिहारी वाजपेयी जी एक अच्छे इंसान थे, जिन्होंने जमीन से जुड़े रहकर राजनीति की और ‘जनता के प्रधानमंत्री’ के रूप में लोगों के दिलों में अपनी खास जगह बनायी थी। उक्त विचार पूर्व शिक्षा एवं पर्यटन मंत्री   रामबिलास शर्मा  ने अटल जी के  जन्म दिवस पर उन्हें श्रद्धा सुमन  अर्पित करते हुए कहे !  उन्होंने कहा कि अटल जी एक ऐसे इंसान थे जो बच्चे, युवाओं, महिलाओं, बुजुर्गों सभी के बीच में लोकप्रिय थे। देश का हर युवा, बच्चा उन्हें अपना आदर्श मानता था। उन्होंने कहा कि  अटल बिहारी वाजपेयी जी की बातें और विचार सदां तर्कपूर्ण होते थे और उनके विचारों में जवान सोच झलकती थी। यही झलक उन्हें युवाओं में लोकप्रिय बनाती थी।  उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी जी जब भी संसद में अपनी बात रखते थे तब विपक्ष भी उनकी तर्कपूर्ण वाणी के आगे कुछ नहीं बोल पाता था। अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने जीवन में पत्रकार के रूप में भी काम किया और लम्बे समय तक राष्ट्रधर्म, पांचजन्य और वीर अर्जुन आदि राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत अनेक पत्र-पत्रिकाओं का सम्पादन भी किया। अटल बिहारी वाजपेयी जी भारतीय जनसंघ के संस्थापक सदस्य थे और उन्होंने लंबे समय तक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय जैसे प्रखर राष्ट्रवादी नेताओं के साथ काम किया। भारत के लोकप्रिय प्रधानमंत्री के रूप में देश के आर्थिक विकास और गरीब वर्ग के सामाजिक कल्याण के लिए उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि भारतीय राजनीति के भीष्म पितामह को राष्ट्र हमेशा याद करेगा। उनकी अटल आवाज और उनके किये महान कार्य हमेशा राष्ट्र के बीच अमर रहेंगे। भाजपा नेता रीतिक वधवा , पार्षद मुकेश रहेजा, नवीन वशिष्ठ ,अमित कुमार, राजन मुंजाल, राजेश यादव, डा. योगेश, राजेंद्र  कुमार, अरविंद कुमार, महाबीर शर्मा, जगदीश शर्मा, मनीष हालुवासिया, विनोद कुमार, रामौतार बंसल,  राजेश कुमार, राजीव शर्मा, विजय कुमार, तेज सिंह ने भी अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्म दिवस पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *