बरसाती पानी से घिरे ग्रामीणों ने अधिकारियों को दिखाया आइना ! इस अनोखे अंदाज में किया प्रदर्शन !

बरसाती पानी से घिरे ग्रामीणों ने अधिकारियों को दिखाया आइना ! इस अनोखे अंदाज में किया प्रदर्शन !

कुराड़ गांव के लोगों ने किया अनोखा प्रदर्शन
पानी की निकासी ना होने पर किया प्रदर्शन
रिहायशी इलाके में जल स्तर बढ़ने पर आंगनवाड़ी में ली शरण
मौके पर पहुंचे अधिकारियों को परोसे लड्डू

कलायत, (रणदीप धानिया)।
कलायत के गांव कुराड़में वर्षों से ठप पानी निकासी व्यवस्था को दुरुस्त करने में विफल रहे प्रशासन के खिलाफ निराला प्रदर्शन किया गया। ग्रामीणों ने इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों के सामने लड्डू परोसते हुए तंज कसा। उन्होंने कहा कि पानी निकासी के आश्वासन सुनतेसुनते इंतजार की हद हो गई है। इसलिए उन्होंने अधिकारियों को मिष्ठान खिलाने का फैसला लिया है। ग्रामीणों के इस रूख को देखते हुए साहब लोग दायें-बायें से निकल लिए। हरियाणा को पड़ोसी राज्य पंजाब को जोडऩे वाले कलायत-दाता सिंह मार्ग पर स्थितकुराड़ गांव में वर्षों से ठप्प पानी निकासी व्यवस्था से लोग बेहाल है। थोड़ी बरसात में ही पानी घरों में हिलोरे मारने लगता है। जब कि गलियां तालाब का रूप ले लेती है। इस संकट से परेशान कुराड़ गांव से गुजर रही माइनर के पास रह रहे बाल्मीकि कालोनी के लोगों के सब्र का पैमाना छलक गया। चौपट निकासी व्यवस्था से बेहाल लोगोंने आंगनबाड़ी में शरण लेनी पड़ी। बलराज, गुलाब, राजा, काला,महेंद्र,गुरदेव,जसमेर,नरेश,सुरेश,प्रदीप,बिंटू,मोनू,अनिल,शमशेर,विनोद,जगदीशव अन्य ग्रामीणों का कहना है कि पिछले कुछ वर्षों से वे नारकीय जीवन जीने को मजबूरहै। पानी निकासी को लेकर वे शासन-प्रशासन तक गुहार लगा चुके है। स्थिति बद से बदतर होती गई। तेज बारिश से उनके मकानों में कई-कई फीट पानी जमा हो जाता है। ऐसे में वेजाए तो कहां जाएं? घरों में रखा अनाज व अन्य सामान पानी में भीगगया है। मजबूरन से उन्हें बच्चों सहित आंगनबाड़ी केंद्र में आसरा लेना पड़ा। लोगों का कहना है कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के चलते कामकाज न होने से वे पहले ही गरीबी का दंश झेल रहे है। घरों में पानी घुसने से बीमारी फैलने का खतरा मंडराने लगा है। पानी निकासी न होने से उनके मकानों में पानी घुस जाता है। जिससे उनके  मकान गिरने के कगार पर आ गए है। यही हाल रहा तो उनके मकान कभी भी जमींदोज हो सकते है। सरकार द्वारा पानी निकासी को लेकर प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं। दर्द इस बात का है कि जिन अधिकारियों के कंधों पर निकासी सुनिश्चित करने का दायित्व है वे कोताही कर रहे हैं। लापरवाह अफसरों के खिलाफसरकार कार्रवाई करे।

प्रारूप को स्वीकृत मिलने का इंतजार :-
 कुराड़ गांव के सरपंच सतबीर गिल का कहना है किपानी निकासी को लेकर हर प्रयास किए जा रहे है। पानी निकासी को लेकर अस्थाई तौर पर पहले भी पाइप दबवाए गए थे। जिससे कुछ हद तक पानी निकासी की समस्या से निजात मिलीथी। बस्ती से पानी निकासी को लेकर प्रारूप बनाकर भेजा गया है। जैसे ही मंजूरी मिलेगी कार्य शुरू करवा दिया जाएगा।

महिला मंत्री केनिर्देशों को अनसुना कर गए अधिकारी :- 
कुराड़ गांव की ठप्प पानी निकासी व्यवस्था में अधिकारियों की मनमानी उजागर हो रही है। ग्रामीणों का कहना है कि हरियाणा महिला एवंबाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कुराड़ गांव की पानी निकासी को लेकर अधिकारियों को निर्देश दिए थे। बावजूद इसके समस्या जस की तस है। इस स्थिति को लेकर लोगों में भारी रोष है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *