प्रधानमंत्री ने कहा, हिंसा में जो जलाया गया क्या वह उनके बच्चों के काम न आता

प्रधानमंत्री ने कहा, हिंसा में जो जलाया गया क्या वह उनके बच्चों के काम न आता

लखनऊ 25दिसंबर(कमल वधावन)पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर बुधवार को उनकी कर्मस्थली लखनऊ पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अनुच्छेद 370, अयोध्या, नागरिकता संशोधन कानून सहित तमाम चुनौतियों का जिक्र करते हुए कहा कि आत्मविश्वास से भरा हिंदुस्तान 2020 में प्रवेश कर रहा है। उन्होंने सरकार की कई उपलब्धियों को गिनाने के साथ सीएए के विरोध में हुई हिंसा पर दुख भी जताया और कहा कि आंदोलकारियों ने जो संपत्ति जलाई है, क्या वह उनके बच्चों के काम नहीं आती?

इससे पहले पीएम मोदी ने लोकभवन में अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा का अनावरण किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने अटल बिहारी चिकित्सा विश्वविद्यालय का शिलान्यास भी किया। अटलजी की 25 फीट ऊंची कांस्य प्रतिमा पर पीएम मोदी ने श्रद्धासुमन अर्पित किये। यह प्रतिमा उत्तर प्रदेश के संस्कृति विभाग ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशन में बनवाई है।

अटल बिहारी वाजपेयी की 95वें जयंती के मौके पर लखनऊ पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि इस स्वागत के लिए काशी का सांसद सभी को धन्यवाद कहता है। मेरा सौभाग्य है कि मुझे दूसरे महत्वपूर्ण कार्यक्रम में यूपी आने का अवसर मिला है। अटल जी की भव्य प्रतिमा लोगों को सुशासन की निरंतर प्रेरणा देती रहेगी। अटल बिहारी चिकित्सा विश्वविद्यालय का शिलान्यास करना मेरे लिए सौभाग्य के पल हैं। अटल जी लखनऊ के लिए अनेक योजनाएं शुरू की थी। उन्होंने लखनऊ को नई पहचान देने के लिए अनेक कार्यक्रम चलाए।

जीवन को टुकड़ों में नहीं देखा जा सकता

पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया कि अटल जी कहते थे कि जीवन को टुकड़ों में नहीं देखा जा सकता। उसको समग्रता में देखना होगा। यह बात सरकार और सुशासन के लिए भी लागू होती है। सुशासन भी तब तक संभव नहीं है, जब तक हम समस्याओं को संपूर्णता में, समग्रता में नहीं सोचेंगे। उन्होंने कहा आज दिल्ली में अटल भूजल योजना का शुभारंभ किया। छह हजार करोड़ रुपये की इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश सहित देश के सात राज्यों में भूजल के स्तर को सुधारने के लिए काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र के लिए सरकार का रोड मैप हैं, प्रिविंटिव हेल्थ केयर पर काम करना, अफोर्डेबल हेल्थकेयर का विस्तार करना, सप्लाई साइड इंटरवेंशन यानि इस सेक्टर की हर डिमांड को देखते हुए सप्लाई को सुनिश्चित करना और मिशन मोड इंटरवेंशन। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत से लेकर योग तक, उज्ज्वला से लेकर फिट इंडिया मूवमेंट तक और इन सबके साथ आयुर्वेद को बढ़ावा देने तक, इस तरह की हर पहल बीमारियों की रोकथाम में अपना अहम योगदान दे रही हैं।

यूपी में 11 लाख लोगों को मिला ‘आयुष्मान’ का लाभ

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आयुष्मान भारत के कारण देश के करीब 70 लाख गरीब मरीजों का मुफ्त इलाज हो चुका है, जिसमें करीब 11 लाख यहीं यूपी के हैं। स्वच्छता और स्वास्थ्य सुविधाओं को गांव-गांव तक सुलभ कराने का जो अभियान यहां की सरकार ने चलाया है, वो यूपी के लोगों के जीवन को आसान बनाने की दिशा में बड़ा कदम हैं। आज सुशासन दिवस पर अटल जी कहते थे हर पीढ़ी के योगदान का मूल्यांकन दो बातों पर निर्भर होगा। पहला हमें विरासत में मिली समस्याओं को कितना सुलझाया है। दूसरा राष्ट्र के भावी विकास के लिए हमने अपने खुद के प्रयासों से कितनी मजबूत नींव रखी है। इन दोनों सवालों के आलोक में हम कह सकते हैं 2020 के साल में भारत अभूतपूर्व उपलब्धियों के साथ प्रवेश कर रहा है। हमें विरासत में जो भी चुनौतियां मिली उनके समाधान की निरंतर हम कोशिश कर रहे हैं। अनुच्छेद 370 जैसी पुरानी और कठिन बीमारी हमें विरासत में मिली और हमने उसे सुलझाने का प्रयास किया और वह आराम से हो गया। सब की धारणाएं चूर-चूर हो गई।

बड़ी से बड़ी चुनौती को हम चुनौती देने के लिए तैयार

पीएम मोदी ने कहा रामजन्मभूमि का इतना पुराना मामले का शांतिपूर्ण समाधान निकला। भारत आजाद हुआ तब से लेकर लाखों गरीब, दलित, वंचित और शोषित लोग अपनी धर्म और अपनी बेटियों की इज्जत बचाने के लिए जो लोग पाकिस्तान से भारत की शरण लेने के लिए मजबूर हो गए, ऐसे लोगों को नागरिकता की गरिमा देने का रास्ता इस देश के एक सौ तीस करोड़ भारतीयों ने निकाला है। इस आत्मविश्वास से भरा हिंदुस्तान 2020 में प्रवेश कर रहा है। अभी भी जो बाकी है, उनके समाधान के लिए भी पूरे सामर्थ्य के साथ हर भारतवासी प्रयास कर रहा है। कितनी भी बड़ी चुनौती को हम चुनौती देने के लिए तैयार हैं। 2014 से पहले देश की आधे से अधिक आबादी के पास शौचालय नहीं था। भारत की आधी से अधिक आबादी के पास शौचालय नहीं थे। आज लगभग हर परिवार में एक है। आज हर परिवार में गैस कनेक्शन हैं।

सुशासन का अर्थ है सभी की सुनवाई हो
पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार के लिए सुशासन का अर्थ है सभी की सुनवाई हो। सुविधा, हर नागरिक तक पहुंचे। सुअवसर हर भारतीय को मिले। सुरक्षा हर देशवासी अनुभव करे, और सुलभता सरकार के हर तंत्र की सुनिश्चित हो। भारत के गरीब लोगों के लिए लगभग दो करोड़ घर बनाए गए हैं। जिनके पास घर नहीं हैं, हम उनके लिए बहुत मेहनत कर रहे हैं। सड़कों और रेलवे कनेक्टिविटी को बढ़ाया जा रहा है और काम बड़ी तेजी से हो रहा है। हम 2024 तक हर परिवार को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए समर्पित हैं। ये सभी तंत्र न्यू इंडिया के लिए एक मजबूत आधार तैयार कर रहे हैं। हम इस मजबूत आधार पर 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बनने की दिशा में पूरे देश के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

हमने सबसे ज्यादा जोर अधिकारों पर दिया

पीएम मोदी ने कहा कि आज सुशासन दिवस पर जब हम नए वर्ष और नए दशक में प्रवेश करने जा रहे हैं, तब हमें अटल जी की एक और बात अवश्य याद रखनी चाहिए। अटल जी कहते थे कि हर पीढ़ी भारत की प्रगति में योगदान का मूल्यांकन दो बातों के आधार पर होगा। पहला, हमें जो विरासत में मिली कितनी समस्याओं को हमने सुलझाया है। दूसरा, राष्ट्र के भावी विकास के लिए हमने अपने खुद के प्रयासों से कितनी मजबूत नींव रखी है। पीएम ने कहा कि आज अटल सिद्धि की इस धरती से मैं यूपी के युवा साथियों को, यहां के हर नागरिक को आग्रह करने आया हूं। आजादी के बाद के वर्षों में हमने सबसे ज्यादा जोर अधिकारों पर दिया है, लेकिन अब हमें अपने कर्तव्यों, अपने दायित्वों पर भी उतना ही बल देना है।

हक और दायित्व को हमेशा याद रखना होगा

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हक और दायित्व को हमें साथ-साथ और हमेशा याद रखना है। उत्तम शिक्षा, सुलभ शिक्षा हमारा हक है, लेकिन शिक्षा के संस्थानों की सुरक्षा, शिक्षकों का सम्मान, हमारा दायित्व है। मैं यूपी के युवाओं और हर दूसरे व्यक्ति से अनुरोध करना चाहता हूं। अब जब हम आजादी के 75 साल बाद जा रहे हैं, वह समय आ गया है जब हमें अपनी जिम्मेदारियों को देखना चाहिए। हर कोई जिसने हिंसक रूप से विरोध किया है और हाल के दिनों में संपत्ति में बर्बरता की है।

यूपी जिस तरह से विरोध प्रदर्शन के नाम पर हिंसा की, सरकारी सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाया। वो लोग एक बार खुद से पूछें क्या उनका रास्ता सही था। क्या उनकी प्रवृत्ति योग्य थी। जो कुछ जलाया गया, बर्बाद किया गया, क्या वह उनके बच्चों के काम आने वाला नहीं था। मोदी ने कहा कि हिंसा में जिनकी मृत्यु हुई, जो पुलिस वाले जख्मी हुए, उनके और उनके परिवार के प्रति सोचें कि उन पर क्या बीतती होगी। इसलिए मैं झूठी अफवाहों में आकर हिंसा करने वालों को, सरकारी सम्पत्ति तोड़ने वालों को आग्रह करूंगा कि बेहतर सड़कें, सुविधाएं और उत्तर सीवरेज प्रणाली नागरिकों का अधिकार है, तो इनको सुरक्षित रखना नागरिकों की ही दायित्व है। हम अपना दायित्व निभाएं, अपने लक्ष्यों को प्राप्त करें, यही सुशासन दिवस पर हमारा संकल्प होना चाहिए। यही जनता की अपेक्षा है, यही अटल जी की भी भावना थी। पीएम ने कहा कि उत्तर प्रदेश के लोगों को अटल मेडिकल विश्वविद्यालय के लिए बहुत बहुत बधाई। साथ ही उत्तर प्रदेश के सभी नागरिकों को नव वर्ष 2020 की अग्रिम शुभकामनाएं।

प्रतिमा अटल जी के आदर्शों की याद दिलाएगी

इससे पहले लोक भवन में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी के पूर्वजों की जन्मभूमि रही है। उन्होंने उत्तर प्रदेश को ही अपनी कर्मभूमि बनाया। अटल जी की पहली कर्मभूमि बलरामपुर में स्वास्थ्य की बेहतर सुविधा के लिए केजीएमयू के सैटेलाइट सेंटर के रूप में एक मेडिकल कॉलेज अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर ही स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू की गई है। अटल जी की यह कांस्य प्रतिमा उनके आदर्शों और मूल्यों की याद दिलाती रहेगी।

अटल जी से जुड़ी स्मृतियां आज भी हमारे दिलों में अटल

इस अवसर पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने स्वागत करते करते हुए कहा कि मैं अपने आप को सौभग्यशाली मानता हूं जहां से अटल जी ने निर्वाचित होते थे वहां से ही मुझे कार्य करने करने का अवसर मिला है। अटल जी से जुड़ी स्मृतियां आज भी हमारे दिलों में अटल हैं। उन्होंने कहा कि अटल जी अजातशत्रु थे। अटल जी कहते थे कि सरकारें बनती और गिरती हैं, राजनीतिक दल बनते हैं टूटते हैं, लेकिन यह देश रहना चाहिए। इससे पहले लोकभवन पहुंचे पीएम मोदी का राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित, उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा व केशव प्रसाद मौर्य ने स्वागत किया।

योगी ने लिया तैयारियों का जायजा

इससे पहले 25 दिसंबर को अटल बिहारी के जन्मदिन पर आयोजित कार्यक्रम की तैयारियों का जायजा लेने सुबह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लोकभवन पहुंचे। उन्होंने प्रतिमा की स्थिति देखने के साथ ही तैयारियों का जायजा लिया और अधिकारियों को निर्देश दिये।

प्रखर वक्ता, युगदृष्टा, अभिजात देशभक्त एवं अद्भुत शब्द शिल्पी भारत रत्न, पूर्व प्रधानमंत्री श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी की जयंती पर उन्हें कोटि-कोटि नमन।

उनका प्रमाणिकता और प्रतिबद्धता से परिपूरित व्यक्तित्व हम सभी भारतीयों को कर्तव्यनिष्ठ नागरिक बनने के लिये प्रेरित करता है।


सुशासन दिवस मना रही भाजपा

पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन को भारतीय जनता पार्टी सुशासन दिवस रूप में मना रही है। इस अवसर पर अटल बिहारी वाजपेयी की नीतियों व सिद्धांतों के बारे में जनसामान्य को बताया जा रहा है। मंडल स्तर पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित कर उन्हें याद किया जा रहा है। केंद्र व प्रदेश सरकार की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *