यमुनानगर निगम की हाउस मीटिंग में हुआ जमकर हंगामा

यमुनानगर निगम की हाउस मीटिंग में हुआ जमकर हंगामा

यमुनानगर BHARAT9 || नगर निगम की हाउस मीटिंग में हुआ जमकर हंगामा।

बीजेपी पार्षदों और मेयर के लेट आने पर कांग्रेस पार्षदों ने विरोध जताया इसी बीच जमकर बहस हुई।वार्ड नंबर 5 से कांग्रेस पार्षद विनय ओर वार्ड नंबर 7 से बीजेपी पार्षद रामआसरे के बीच धक्कामुक्की भी हुई।बाकी पार्षदों ने बीच बचाव कर दोनो पार्षदों को शान्त करवाया।वही निगम की हाउस मीटिंग में स्ट्रीट लाइट ,सफाई व्यवस्था, सड़को के मुद्दे को लेकर हंगामा हुआ।कई पार्षदों का कहना था कि ये महज नाम की मीटिंग है अधिकारी नही सुनते नही है ।पुराने अजेंडे भी अब तक एमलीमेन्ट नही हुए।मेयर और बीजेपी पार्षद सब लेट आये क्या समय की कोई वैल्यू नही है महज मीटिंग कर फॉर्मेलटी की गई है।

निगम की हाउस की मीटिंग में हुआ ज़ोरदार हंगामा।धक्का मुक्की पर उतारू हुए पार्षद।दरअसल मीटिंग का समय 11 बजे का था कांग्रेसी पार्षद 11 बजे पहुंच गए थे ।लेकिन मेयर और बीजेपी पार्षद साढ़े 11 बजे पहुंचे जिसको लेकर बीजेपी और कांग्रेसी पार्षदों में तीखी बहस हुई और वार्ड नंबर 5 से कांग्रेस के पार्षद विनय कंबोज और वार्ड नंबर 7 से बीजेपी पार्षद राम आसरे के बीच धक्का मुक्की तक हुई।हालांकि आसपास अन्य पार्षदों ने बीच बचाव कर दोनो पार्षदों को शांत करवाया।

निगम की एक साल में तीसरी मीटिंग जिसमे जबरदस्त हंगामा हुआ ।वार्ड नंबर 4 से पार्षद देवेंद्र सिंह ने बताया कि मीटिंग का 11:00 बजे का समय था हम विपक्ष के सभी साथी पार्षद 11:00 बजे यहां पर पहुंच गए थे मैं और बीजेपी के पार्षद 11:30 बजे पहुंचते हैं क्या कारण है ऐसी क्या गुप्त मीटिंग करते हैं ।जो यहां पर चर्चा नहीं हो सकती मेयर साहब मीटिंग को लेकर गंभीर नहीं है। समय का उनको कोई ध्यान नहीं है समय की कोई वैल्यू नहीं है। देवेंद्र ने बताया कि आज हाउस की मीटिंग 4 महीने के बाद हुई है 1 साल में यह तीसरी मीटिंग है पहली जो मीटिंग हुई उसमें जो प्रस्ताव हमने पास किए थे उन पर कोई कार्रवाई आज तक नहीं हुई है ।जब हम लोग मीटिंग में सवाल पूछते हैं की पिछली मीटिंग के जो एजेंडे थे ।उन पर क्या कार्रवाई हुई कितने हमने ग्राउंड लेवल इंप्लीमेंट किये। कोई जवाब यहां पर नहीं मिलता।जहां तक आज की मीटिंग का सवाल है आज भी सिर्फ फॉर्मेलिटी मीटिंग की की है। किसी भी विकास के मुद्दे पर चर्चा की गई पूरा 3 घंटे का समय बातों में गुजार दिया।पार्षदों को गुमराह किया जा रहा है ।बीजेपी के पार्षद जो मेयर साब के साथी पार्षद है धक्का मुक्की करते है धक्का मुक्की तभी होती है जब हम मेयर से जवाब पूछते है उनके पास जवाब था नही ।

वार्ड नंबर 3 की पार्षद हरमीन कौर ने बताया कि हम अपने एरिया में हर रविवार लोगो के बीच जाकर उनकी समस्याओं को सुनते है।हमे पहले एजेंडे में जो कुछ कहा गया सुविधाएं दी जाएंगी इस बात को भी 1 साल हो गया है कोई सुविधाएं नहीं है। कुछ भी नहीं है जब हम फोन करते हैं तो कहा जाता है कि यह 15 दिन में इसका बताएंगे किस का टेंडर पास हुआ है ।कभी यह कहा जाता है कि 1 महीने में बता रहे हैं कुछ भी सही नहीं हो रहा खत्म कहानी है।स्ट्रीट लाइट तो हमारे वार्ड में है ही नहीं है अगर हम एक्सईन को बोलते हैं तो वो बोलते है मेयर साहब एस्टीमेट करके बताएंगे रिकॉर्डिंग भी है ।मेरे पास जो सच-सच कहेंगे लाइट की बहुत बड़ी समस्या 6 महीने से इस मामले में बार-बार कह रही हूं लाइट्स आ गई तो मेटेरियल नहीं है अगर मेटीरियल है तो लाइट नहीं है। हमने आज भी यही कहा था कि जो भी एजेंडा पास किया जाता है उसे समय पर पूरा किया जाए। किसी को शिकायत ही न करनी पड़े।हम जनता के लिए बोल रहे है ।

वार्ड नंबर 13 की पार्षद निर्मल चौहान ने बताया कि बताया कि यह हाउस की तीसरी मीटिंग थी दूसरी मीटिंग की थी जो बिना फंड के हो रही है मेयर साहब और अधिकारियों का कहना है कि निगम में फंड नहीं है पिछले हाउस में 13 में जो बना था 19/4/17 से पहले हर वार्ड में एमसी फंड में साढ़े 3 करोड़ का काम हुआ था ।जिसने भी रिकॉर्ड देखना मेरे पास आकर दे सकते हैं ।इनकी पता नहीं क्या मोनोपली है क्या करना चाहिए ।शायद जो चुने हुए प्रतिनिधि हैं उनको खत्म करते जा रहे हैं पंचायती राज एक सपना था महात्मा गांधी जी का उसपर ये काम नही कर रहे है ।ये सिर्फ तानाशाही कर रहे है निगम सिर्फ नाम का निगम है काम नही हो रहे है।दिखावे के लिए एक मीटिंग की गई है विकास के साथ इनका कोई भी लेना देना नही है।

यमुनानगर जगाधरी नगर निगम के मेयर मदन चौहान से जब मीटिंग में हुए हंगामे पर पूछा गया तो उनका कहना था कि कहा और विवाद हुआ जिनकी कमीशन बंद करने का हमने काम किया उस पर विवाद हुआ है ।एक अधिकारी को ठेकेदार द्वारा धमकाने की बात जो सामने आई है उस ठेकेदार के खिलाफ संज्ञान लेंगे।निगम में जो धांधली होती थी उसे बन्द किया गया है । आज 31 मुद्दों पर चर्चा की गई।पूछा गया कि मुख्य बहस किस मुद्दे पर हुई इस पर मेयर का कहना था आपने सारा देख लिया रिकॉर्ड कर लिया था जो विरोध कर रहा था आपने उसी से पूछ लिया कि 2 परसेंट बन्द हो गयी क्या।

जनता के चुने हुए प्रतिनिधि ही अगर इस प्रकार है आपस में उलझेंगे और अधिकारी भी एक दूसरे पर काम को लेकर पल्ला झाड़ते नजर आए ।जोकि इस मीटिंग में दिखाई दिया ।ऐसे में देखना होगा कि शहर को विकास की नई दिशा कैसे मिलेगी। फिलहाल हंगामे के बीच हुई बैठक के बाद कुछ पार्षदों के यही कहना था कि जिन एजेंडों पर बातचीत की गई है। जल्द ही उन सब पर काम किया जाएगा ।अब देखना होगा कि कितनी जल्दी उन सब पर काम किया जाता है। क्योंकि कई पार्षदों का कहना था कि अब तक काम नहीं किया गया टाइम खराब किया गया है मीटिंग करके और यह मीटिंग एक दिखावा मात्र है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *