नगर निगम कार्यकारिणी बैठक में गऊशाला और जमीन का मुद्दा रहा हावी

नगर निगम कार्यकारिणी बैठक में गऊशाला और जमीन का मुद्दा रहा हावी

झाँसी(अभिषेक तिवारी)। झाँसी नगर निगम में लॉक डाउन के चलते कार्यकारिणी की बैठक नही हो सकी थी जिसके चलते 20.05.2020 को नगर निगम के महारानी लक्ष्मीबाई प्रसाशनिक भवन में महापौर रामतीर्थ सिंघल,नगर आयुक्त मनोज कुमार सिंह अपर नगर मजिस्ट्रेट वान्या सिंह और उप सभापति राजेश त्रिपाठी की अध्यक्षता में कार्यकारिणी की बैठक हुई जिसमें नगर निगम की बेसकीमती करोङो रुपयों की जमीन,गौशाला में गाय पर ही अधिकारियों की राजनीति का मुद्दा,और बानी हुई सड़को पर फिर से टेंडर कर सड़के बनाने जैसे पार्षदो के सवालों पर अधिकारियों की चुप्पी साधी रही किसी भी नगर निगम के अधिकारी द्वारा पार्षदो को सन्तोषजनक जबाब नही दिया गया। जब उपसभापति राजेश त्रिपाठी ने झाँसी नगर में लगी तिरंगा लाइट के बारे में संबंधित अधिकारी प्रभारी मार्ग प्रकाश विभाग अगम कटियार से जानकारी चाही तो 2 घण्टे में भी अगम कटियार तिरंगा लाइट से संबंधित फ़ाइल कार्यकरिणी के समक्ष प्रस्तुत नही कर सके….


गाय के नाम पर तो बक्श दो सरकार- पार्षद महेश गौतम,विकास खत्री

प्रदेश की योगी सरकार भले ही गाय के प्रति बड़े बड़े दावे कर रही हो लेकिन कही न कही गाय के नाम पर नगर निगम के अधिकारियों की चुप्पी एक बड़े घोटाले की ओर इशारा कर रही है कार्यकारिणी सदस्य और पार्षद महेश गौतम,विकास खत्री द्वारा जब कार्यकारिणी की मीटिंग में उपस्थित अधिकारियों से गौशाला में भूसा, हरी घास की पूर्ती से सम्बंधित कार्यदायी संस्था के बारे में पूंछा गया कि क्यो एक ही संस्थान संजय इलेक्ट्रिकलस को ये काम दिया गया तो सम्बंधित अधिकारियों के पास कोई सन्तोषजनक जबाब नही मिला जिसके चलते लगभग 2 घण्टे तक पार्षदो को यहाँ वहां की बातों से समझाने का प्रयास किया गया लेकिन बाबजूद इसके भी सम्बंधित संस्था के टेंडर निरस्त कर केवल एक ही कार्यदायी संस्था संजय इलेक्ट्रीकलस को टेंडर पास कर सप्लाई देने की प्रकिया की सन्तोषजनक फ़ाइल पार्षदो के समक्ष कार्यकारिणी में प्रस्तुत न कर सके जिससे कार्यकारिणी का माहौल गरमाया..


नगर निगम की कई करोङों की जमीन पर कब्जा नगर निगम के अधिकारी कब्जा मुक्त कराने में असमर्थ- दिनेश सिंह (दीपू)

पार्षद दिनेश सिंह दीपू ने कार्यकारिणी की बैठक में सबसे अहम मुद्दा नगर निगम की करोङो की जमीन जिस पर कब्जा हो गया के बारे में बात उठाई जिस पर नगर निगम के मुख्य सम्पत्ति प्रभारी अपर नगर आयुक्त अरुण कुमार गुप्ता का कोई सन्तोषजनक जबाब नही मिला वही पार्षद दिनेश सिंह ने सारे सबूतों के साथ नगर निगम को अवगत कराया की लहार गिर्द गाटर संख्या 731,751,146 में पिछले 5 सालों से कब्ज है लेकिन नगर निगम का संपत्ति विभाग चादर ओढ़कर सो रहा वो नही चाहता की करोङो रुपयों की जमीन कब्जा मुक्त हो वही इस मुद्दे पर नगर आयुक्त मनोज कुमार सिंह ने सही जांच कर कार्यवाही के निर्देश भी दिए।

कार्यकारिणी के पार्षदो ने नही खाया नगर निगम का खाना,न पिया चाय और पानी

अभी हाल ही में हुए मुख्यमंत्री के फिजूलखर्ची को बचाने के आवाहन पर नगर निगम के कार्यकारिणी सदस्यों ने भी पालन करते हुए कहा कि हमारी बैठक में नगर निगम द्वारा खाना व चाय पानी मे लगभग 1लाख 50 हजार का खर्चा हो जाता था इस लिए हम स्वयं अपने घर से खाना-चाय- पानी लेकर आए जिससे नगर निगम की फिजूलखर्ची बच सके और जरूरत पड़ने पर मुख्यमंत्री राहत कोष में हमारे चाय,पानी-खाने पर खर्च होने वाला पैसा भेजा जा सके वही कांग्रेस से पार्षद अरविंद कुमार( बबलू) ने कार्यकारिणी से मिलने वाली पार्षद भत्ता राशि को न लेने और कोरोना महामारी के चलते दान देने की बात कही।

Published By: Pooja Saini

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *