नकली जेल सुपरिंटेंडेंट द्वारा ठगी करने की कोशिश का मामला सामने आया है।

नकली जेल सुपरिंटेंडेंट द्वारा ठगी करने की कोशिश का मामला सामने आया है।

पंचकूला : गांव मदनपुर में एक प्रॉपर्टी डीलर के ऑफिस में आकर नकली जेल सुपरिंटेंडेंट द्वारा ठगी करने की कोशिश का मामला सामने आया है। हालांकि समय रहते प्रॉपर्टी डीलर नकली जेल सुपरिंटेंडेंट की नियत को भांप गया और उसने क्राइम ब्रांच सेक्टर-19 को मामले की सूचना दे दी जिसके बाद पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। मिली जानकारी के अनुसार अमरेंद्र सिंह मकान नंबर 15/ए गांव मदनपुर सेक्टर-26 प्रॉपर्टी डीलिग का काम करता है। उनके पास एक व्यक्ति जो कि पंजाब का रहने वाला है, आया। उस समय अमरेंद्र सिंह अपने दफ्तर में मौजूद नहीं थे। अमरेंद्र के साथी गुरनाम सिंह ने पुलिस की वर्दी में आए इस व्यक्ति को दफ्तर में बैठा दिया। इस व्यक्ति ने पंजाब पुलिस की वर्दी पहनी हुई थी। वर्दी पर पीपीएस के बैच लगे हुए थे। वर्दी पर महेंद्र पाल सिंह, डिप्टी सुपरिंटेंडेंट की नेम प्लेट लगी हुई थी। इसी बीच अमरेंद्र दफ्तर में आ गए व्यक्ति गुरनाम सिंह और अमरिदर सिंह से बातचीत करने लगा। उन्हें कहा कि वह 35 से 40 किल्ले जमीन खरीदना चाहता है। उसके पास काफी पैसा कैश पड़ा है परंतु उसके हाव-भाव देखकर ऐसा महसूस नहीं हो रहा था। जब गुरनाम और अमरेंद्र ने पूछा कि आपकी गाड़ी और कोई गनमैन साथ नहीं आया तो कहा कि ऐसे कामों में सरकारी गाड़ी और गनमैन लेकर नहीं चल सकते। अमरेंद्र को शक हुआ और उसने पुलिस को सूचना दे दी।

पुलिस के सामने कर रहा पागलपन का ड्रामा

जिसके बाद क्राइम ब्रांच, सेक्टर-19 से राजेश कुमार अन्य कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंचे। जिन्होंने इस व्यक्ति से पूछताछ की और उसका सामान चेक किया तो उसके बैग से तीन-चार महेंद्र पाल सिंह के अलग-अलग आइडी प्रूफ मिले। वह मान गया कि वह कहीं पर अधिकारी नहीं है जिसके बाद पुलिस उसे पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई। जहां पर वह पागलपन का ड्रामा कर रहा है। पुलिस ने अमरेंद्र की शिकायत के आधार पर धारा-170, 171, 419, 420 के तहत केस दर्ज कर लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *