गैंगस्टर दिलप्रीत बाबा जेल से मांगता है रंगदारी, फायरिग मामले में गुरदासपुर का आरोपित काबू

गैंगस्टर दिलप्रीत बाबा जेल से मांगता है रंगदारी, फायरिग मामले में गुरदासपुर का आरोपित काबू

पंचकूला : पिजौर के मढ़ावाला में एक कबाड़ व्यापारी से 24 दिसंबर को रंगदारी और फिर 26 दिसंबर को दोबारा उसके कार्यालय पर फायरिग और धमकी भरा पत्र चिपकाने के मामले में पंचकूला पुलिस को पहली सफलता मिल गई है। पुलिस ने इस मामले में संलिप्त कार के मालिक के बेटे को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि यह युवक वारदात के समय हमलावरों के साथ नहीं था लेकिन वह हमले की योजना बनाने और रेकी करने में संलिप्त था। पुलिस द्वारा आरोपित को रिमांड पर लेकर उसके अन्य साथियों के बारे में पूछताछ की जाएगी। इस मामले में गैंगस्टर दिलप्रीत बाबा की संलिप्तता भी सामने आई है। जिसके चलते पुलिस दिलप्रीत बाबा को प्रोडक्शन वारंट पर लेकर पूछताछ करेगी। मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने गुरदासपुर निवासी पंकज वर्मा (38) सुपुत्र गुलशन राय को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक 24 दिसंबर को जब कबाड़ व्यापारी पुरुषोत्तम लाल से रंगदारी लेने के लिए आरोपित आए थे तो वह पंकज वर्मा से कार लेकर आए थे। जब पुलिस रंगदारी कर भाग रहे आरोपितों का पीछा कर रही थी तो आरोपितों एवं पुलिस के बीच फायरिग हुई थी। इस दौरान आरोपित कार छोड़कर भाग गए थे। जिसे पुलिस ने मौके से बरामद कर लिया था। यह कार नई थी और इसकी रजिस्ट्रेशन नहीं हुई थी। जिसके बाद कार के दस्तावेजों की जांच की गई तो पता चला कि कार गुलशन राय के नाम पर रजिस्टर्ड है। पंकज ने कबूला उसकी आरोपितों से जान-पहचान
पुलिस की टीम गुरदासपुर पहुंची जहां पर गुलशन राय से पूछताछ की गई तो उसने वारदात के बारे में जानकारी होने से इन्कार कर दिया। इसके बाद उसके बेटे पंकज वर्मा के बारे में पता लगाया तो वह घर पर नहीं था। परिवार पर दबाव बनाकर पुलिस ने पंकज वर्मा को बुलाया और सख्ती से उससे पूछताछ की। पंकज ने कबूल किया है कि आरोपितों से उसकी जान पहचान है। उसी ने कार मुहैया करवाई थी लेकिन 24 और 26 दिसंबर को जब पुरुषोत्तम लाल पर हमला हुआ तो उस दिन वह चारों आरोपितों के साथ नहीं गया था। आरोपित एक बार दुबई भी गया था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *