केंद्र सरकार के एक साल पर दीपेंद्र हुड्डा ने साधा निशाना, कोरोना काल में बीजेपी कर रही है राजनीति…

केंद्र सरकार के एक साल पर दीपेंद्र हुड्डा ने साधा निशाना, कोरोना काल में बीजेपी कर रही है राजनीति...

चंडीगढ़(भारत 9 डेस्क)। चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि इस वर्ष पूरे दुनिया कोरोना वायरस से जूझ रही है। जबकि बीजेपी अपनी सरकार के 1 साल के उपलब्धियों का बखान करने में लगी हुई है। दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से जारी अनलॉक के नियमों में राजनीतिक और धार्मिक कार्यक्रम करने पर रोक लगी हुई है। जबकि बीजेपी खुद इन नियमों को तोड़कर तोड़ रही है। कभी वह अपनी उपलब्धियों के लिए लोगों के घर-घर पहुंच रही है तो कभी वर्चुअल रैलियों का आयोजन कर रही है। दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि करोना काल में लोगों को बचाना मुख्य काम होना चाहिए। लेकिन बीजेपी अपनी कुर्सी बचाने में लगी हुई है। कांग्रेस को बीजेपी की उपलब्धियों का बखूबी पता है। कांग्रेस इन की नाकामियों के खिलाफ जन आंदोलन भी छेड़ सकती है। लेकिन वक्त का तकाजा है कि इस वक्त कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ी जाए और लोगों को बचाया जाए।

दिल्ली में कोरोना वायरस के टेस्टओं की संख्या बढ़ाकर 3 गुना करने और कोरोना टेस्ट की शुल्क में कमी करने के फैसले का दीपेंद्र हुड्डा ने समर्थन किया। उन्होंने कहा कि हरियाणा में भी दिल्ली की तर्ज पर प्राइवेट lab में कोरोना वायरस टेस्ट की अनुमति दी जानी चाहिए। साथ ही इसके टेस्ट की फीस भी कम की जानी चाहिए। तभी महामारी पर काबू पाया जा सकता है। राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने सवाल उठाया कि जब उत्तर प्रदेश ने दिल्ली से लगते हुए अपनी सीमाओं को अभी तक नहीं खोला है तो हरियाणा नहीं अपनी सीमाओं को क्यों खोला हुए । सरकार को इस पर विचार करना चाहिए ताकि प्रदेश में कोरोना के मामलों में कमी आ सके। सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि हाल ही में सरकार ने हरियाणा का करीबन 132000 हजार करोड रुपए का बजट पेश किया था।

लेकिन बजट में आवंटित राशि से विकास कार्यक्रम शुरू करने से पहले ही देश में लॉकडाउन लागू हो गया था। ऐसे में सरकार को बजट के पैसे से आम लोगों को बिजली, किराए, स्कूल फीस आदि में सीधी राहत पहुंचाने चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार की लापरवाही के चलते आज गरीब लोग अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल में पढ़ाने की बजाय सरकारी स्कूलों में दाखिला करवा रहे हैं। जानकारी के अनुसार अब तक करीब एक लाख बच्चे सरकारी स्कूलों में दाखिला ले चुके हैं। बड़ौदा उपचुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और मंत्रियों की तरफ से आयोजित कार्यक्रम पर बोलते हुए सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि 6 साल सरकार के कार्यकाल के दौरान मुख्यमंत्री ने एक बार भी बड़ौदा में जाने की नहीं सोची। लेकिन अब उपचुनाव होने वाले इसके चलते बीजेपी के नेताओं और मंत्रियों ने जनता पर डोरे डालने शुरू कर दिए हैं। बरोदा हलके की जनता बखूबी जानती है कि कौन उनका है और कौन पराया है। उपचुनाव के दौरान जनता इसका जवाब भी दे देगी।

Published By: Pooja Saini

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *