केंद्र व राज्य सरकारों की श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ कर्मचारियों का प्रदर्शन  

केंद्र व राज्य सरकारों की श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ कर्मचारियों का प्रदर्शन  

कर्मचारियों का सत्यग्रह कर शांति पूर्ण तरिके से शहर में प्रदर्शन   
सभी विभागों के कर्मचारि हुए शामिल
1983 PTI समेत 10 हजार कर्मचारियों को बहाली की मांग 
आज के दिन 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन की हुई थी शुरुआत  

गोहाना (सुनील जिंदल ) :-
केंद्र व् राज्य सरकारों की श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ गोहाना में सर्व कर्मचारी हरियाणा व् जन संघष मंच हरियाणा के बैनर तले सभी विभागों के कर्मचारियों ने अपने अपने तरिके से सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान कर्मचारीयो ने कहा मजदुर वर्ग पर लगातार बढ़ते हमलो के बिच आई कोरोना महामारी के दौरान मोदी सरकार सार्वजनिक क्षेत्र को बेचने  श्रम कानूनों को खत्म करने जा रही है… इसकी के चलते आज पुरे देश में कर्मचारियों में रोष है आज के दिन  1942 में भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत हुई थी और आज  केंद्र व् राज्य सरकारों की श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ गोहाना में कर्मचारी शांति पूर्ण तरिके से शहर में प्रदर्शन कर सत्यग्रह कर रहे है। इस दौरान कर्मचारियों ने सरकार से मांग की की श्रम कानूनों में किये गए सभी मजदुर विरोधी संसोधन तत्काल रद किये जाये विभिन राज्य सरकारों दवारा कार्य दिवस 12 घंटे किये जाने का मजदुर विरोधी फैसला रदद् किया जाए.. कोरोना काल में निकाले गए मजदूरों व् कर्मचारियों को काम पर वापस लिया जाने की मांग की वही दूसरी और सर्व कर्मचारियों हरियाणा के बैनर तले कर्मचरियो ने कहा महात्मा गाँधी ने जो आज के दिन अंग्रेजो के खिलाफ सत्या ग्रह सुरु किया था इसी की 78 वि वर्ष गाठ पर आज कर्मचारी सत्या ग्रह कर रहे है ठेका प्रथा खत्म करने सार्वजनिक क्षेत्र को बेचने  ,श्रम कानूनों को खत्म करने 1983 PTI समेत 10, 000 कर्मचारियों को बहाली की मांग। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *