ईओ और पार्षदों के बीच बढ़ा विवाद ! जानिए किसने क्या कहा ?

ईओ और पार्षदों के बीच बढ़ा विवाद ! जानिए किसने क्या कहा ?

नगर परिषद ईओ और पार्षदों के बीच तनातनी
एक दूसरे पर लगाए गंभीर आरोप
सफाई कर्मचारियों ने की ईओ के पक्ष में की नारेबाजी
जींद, (अनिल कुमार)। जींद नगर परिषद में ईओ औरपार्षदों के बीच ठन गई है…..एक वॉर्ड के पार्षद की ओर से ईओ के पास अपना कामकरवाने के लिए पहुंचने पर ईओ ने उसे अनुचित बताते हुए काम करने से इंकार करदिया….इस दौरान दोनों के बीच काफी कहासुनी हुई….

इस बीच पार्षद काला के समर्थनमें परिषद प्रधान पूनम सैनी के पति जवाहर सैनी सहित डेढ़ दर्जन से अधिक पार्षद भीपहुंच गए। विवाद के बीच ईओ सुरेश चौहान ने पार्षद हरिंदरकाला व प्रधान पूनम सैनी के पति व भाजपा नेता जवाहर सैनी पर अभद्रता करने वपिस्तौल दिखाकर धमकी देने के आरोप लगाए। ईओ के समर्थन में पहुंचे सफाईकर्मचारियों ने भी कार्यकारी अधिकारी को इस प्रकार कार्यालय में धमकी देना सहननहीं किया । उन्होंने जोरदार नारेबाजी भी की। उस समय ईओ के खिलाफ डेढ़ दर्जन सेअधिक पार्षद जुटे थे। अधिकारी डॉ. एसके चौहान ने जवाहर सैनी व काला सैनी पर आरोपलगाए हैं कि दबाव बनाकर उनसे गलत काम करवाने का प्रयास किया जाता है।

काम नियमानुसार करने की बात कहने पर धमकी दी जाती है। डॉ. एसके चौहान ने बताया कि जवाहर सैनी  व काला सैनी नगरपरिषद ने पैसे लेकर गलत काम करवाते हैं। ऐसे में उनकी जानकारी में आया कि बडनपुर निवासी एक बच्ची का काम नगरपरिषद के रिकार्ड में अलिना दर्ज है, जबकि दोबारा रिकार्ड में गड़बड़ी कर उसे तेजस्वनी कर दिया गया है। यह बहुत गंभीर मामला है। यह मामला संज्ञान में आने पर उन्होंने बच्ची के पिता से बात की। इसी दौरान काला सैनीएक औऱ फाइल लेकर आए और हस्ताक्षर करने के लिए उनकी मेज पर रख कर चले गए। इसके करीब दस मिनट बाद वे फिर कार्यालय में आए और फाइल के बारे में पूछा। इस पर उन्होंने कहाकि अभी फाइल देखी नहीं है। इसके बाद ही वे हस्ताक्षर करेंगे। इतना सुनकर काला सैनीभडक़ गए और अभद्र भाषा का प्रयोग करने लगे। उन्होंने जवाहर सैनी को भी बुला लिया।आरोप है कि काला सैनी ने अपनी कमीज हटाकर पिस्तौल दिखाया और धमकी दी।

डॉ. एस के चौहान के अनुसार उनके समक्ष वार्ड नंबर दो में निर्माणाधीन पार्क में मिट्टी डालने का एक मामला लाया गया। इस पर भीजवाहर सैनी व काला सैनी हस्ताक्षर करवाना चाहते थे, लेकिन उन्होंनेपैमाइस करवाकर कार्रवाई करने को कहा। इससे भी वे नाराज थे और इसके लिए माहौल बनायाजा रहा था। शुक्रवार को उन्होंने कार्यालय में आकर धमकी दे दी।वहीं, परिषद प्रधान के पति व भाजपा नेता जवाहरसैनी ने भी आरोप लगाया कि ईओ डॉ. एसके चौहान चुने हुए जनप्रतिनिधियों से सम्मानजनकव्यवहार नहीं करते। उनकी कार्यशैली से सभी पार्षद तंग हैं। पिछले एक महीने में वेलोगों व पार्षदों के खिलाफ सिविल लाइन थाने में एससी- एसटी एक्ट लगवाने की शिकायतदे चुके हैं। एक विशेष समुदाय से संबंधित होने के कारण वे नाजायज फायदा उठा रहेहैं। परिषद कार्यालय में काम के लिए आने वालों के प्रति उनका व्यवहार अशोभनीय होताहै।

जिस पार्क से संबन्धित बिलों की बात ईओ कह रहे हैं, वो ठेकेदार सेसंबंधित है। बिलों पर जेई और एमई सहित ईओ के ही हस्ताक्षर होने हैं। रिपोर्ट भी अधिकारियों की ही होनी है। उससे हमारा कोई लेना देना नही है। इस तरह से दोनों पक्षों ने एक दूसरे केखिलाफ गम्भीर आरोप लगाए है दोनो की बातचीत में अनेक बाते निकलकर सामने आ रही है। देखना होगा कि प्रशासन की ओर से मामले में दखल देकर क्या इसकी जांच करवाई जाती हैया फिर मामला इसी प्रकार से चलता रहेगा….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *