इस क्रिकेटर को मिली थी जान से मारने की धमकी, देश छोड़कर पड़ा था भागना

इस क्रिकेटर को मिली थी जान से मारने की धमकी, देश छोड़कर पड़ा था भागना

नई दिल्ली : (ब्यूरो) 18 साल की उम्र में इस खिलाड़ी ने टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया, 19 साल में उपकप्तान बना. 20 साल 358 दिन की उम्र में उसे कप्तानी मिल गई. 5 फुट 5 इंच का यह विकेटकीपर बल्लेबाज टेस्ट इतिहास का सबसे युवा कप्तान के तौर पर जाना गया. यह रिकॉर्ड करीब 15 साल तक उसके नाम रहा. पिछले साल अफगानिस्तान के राशिद खान (20 साल 350 दिन) ने सबसे कम उम्र मे टेस्ट कप्तान बनने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया.

जी हां! बात हो रही है जिम्बाब्वे के ततेंदा तायबू की. आज उनका जन्मदिन है. वह 37 साल के हो गए. तायबू 14 मई 1983 को हरारे में पैदा हुए थे. चर्चिल ब्वॉयज हाई स्कूल में पढ़ रहे प्रतिभाशाली तायबू पर नजर पड़ते ही उन्हें 1999-2000 के वेस्टइंडीज दौरे पर भेज दिया गया था. तायबू जल्द ही अनुभवी विकेटकीपर एंडी फ्लावर का विकल्प बन गए.

… लेकिन 18 महीने के अंदर ही कप्तानी छोड़नी पड़ी

अप्रैल 2004 में जिम्बाब्वे क्रिकेट प्रबंधन में मची उथल-पुथल के चलते हीथ स्ट्रीक के इस्तीफे के बाद करीब 21 साल के तायबू को राष्ट्रीय टेस्ट टीम की बागडोर सौंप दी गई. हालांकि तायबू को धमकियों के चलते 18 महीने के अंदर ही कप्तानी छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा. इतना ही नहीं उन्हें देश छोड़कर जाना पड़ा. हालांकि 2007 के मध्य में फिर से जिम्बाब्वे टीम से जुड़े.

आखिरकार तायबू ने चर्च के कार्य को वरीयता देते हुए जुलाई 2012 में महज 29 साल की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया. तायबू ने 28 टेस्ट में 30.31 की औसत से 1546 रन बनाए और विकेट के पीछे 62 शिकार किए. 150 वनडे में 29.25 की औसत से 3393 रन बनाने के अलावा उन्होंने विकेटकीपर के तौर पर 147 शिकार किए. वह 17 टी-20 इंटरनेशनल में भी उतरे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *