आलू ने तोड़े रिकॉर्ड, पहली बार 40 रुपये किलो थोक का भाव

आलू ने तोड़े रिकॉर्ड, पहली बार 40 रुपये किलो थोक का भाव

कांगड़ा -: इन दिनों किसानों के लिए आलू की पैदावार किसी लाटरी से कम साबित नहीं हुई है। पहली बार किसानों को आलू के रिकॉर्ड 40 रुपये प्रति किलोग्राम थोक के दाम मिल रहे हैं। इस बार कम फसल होने के बावजूद यहां के किसान मालामाल हो रहे हैं।
अगस्त में किसानों की आलू की फसल निकलना शुरू हुई थी। शुरू में बरोट का आलू 20 से 25 रुपये प्रति किलोग्राम थोक भाव में बिका। जो अब दो दिन से 40 रुपये प्रति किलोग्राम थोक में बिक रहा है। यहां पर आलू का सीजन नवंबर तक चलता है। पिछले साल मात्र 5 से 10 रुपये प्रतिकिलो थोक भाव था। बरोट के आलू का हर वर्ष करीब 5 से 6 करोड़ रुपये तक कारोबार होता है।

हालांकि, पिछले वर्ष के मुकाबले इस बार खेतों में आलू की फसल आधी ही हुई है, लेकिन थोक भाव 40 रुपये प्रतिकिलो मिलने से किसानों की जेब फिर भी मालामाल हो रही है। बरोट का आलू प्रदेश की नहीं, बल्कि दूसरे राज्यों की मंडियों में भी भेजा रहा है। आज कल 8 से 10 गाड़ियां रोजाना मंडियों में जा रही हैं। उधर, डीसी कांगड़ा राकेश प्रजापति ने कहा कि खेती में भी रोजगार के बेहतरीन अवसर हैं। किसानों को अब खेती के अच्छे दाम मिलते हैं।
इसके अलावा दोनों क्षेत्रों मे 5 से 6 करोड़ की सब्जियां भी हर वर्ष निकलती हैं। मुल्थान मे बंद गोभी 12 से 15 रुपये प्रतिकिलो, फूल गोभी 40 से 45 रुपये, मूली 12 रुपये, धनिया 80 से 100 रुपये, चुकंदर 20 से 25, ब्रोकली 30 से 40 तक प्रति किलो थोक भाव में बिक रही है। किसानों को लग रहा था कि कोरोना के चलते इस बार कम रेट रहेंगे, लेकिन किसानों को फसल के अच्छे दाम मिल रहे हैं।

किसानो का कहना है की कि इस साल कम फसल के बावजूद आलू के दाम चार गुणा मिल रहे हैं।

बरोट का आलू हिमाचल, अमृतसर, पठानकोट, चंडीगढ़ मंडियों मे मशहूर है। यह आलू चार पांच महीने तक खराब नहीं होता है। खाने में यह आलू बहुत स्वादिष्ट होता है। बरोट का आलू दिसम्बर के बाद कांगड़ा घाटी में बिजाई के लिए लगता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *